कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की पूर्णीमा तिथि में पड़ा चंद्र ग्रहण, इसकी समय अवधि सुबह 11:32 से लेकर शाम 5:33 तक रहेगी।

हिंदू धर्म में ज्योतिष शास्त्र के अनुसार चंद्रमा जब छाया ग्रह केतु के संपर्क में आता हो, या केतु ग्रह से युति का संयोग बनाता हो तब चंद्र ग्रहण की स्थिति बनती है

अरुणाचल प्रदेश और असम के कुछ हिस्सों में चंद्र ग्रहण को देखा जा सकेगा, इसके अलावा ये उत्तर और दक्षिण अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, पूर्वी एशिया और प्रशांत क्षेत्र में देखा जा सकेगा।

हिंदू पंचांग के अनुसार आज का लगने वाला चंद्र ग्रहण राशि चक्र में आने वाली द्वतीय राशी वृषभ में लगेगा, वहीं कृतिका नक्षत्र में यह ग्रहण अपना प्रभाव डालेगा

हिंदू धर्म में ग्रहण पर विशेष दान का महत्व बताया गया है, इस दिन चंद्रमा से जुड़ी वस्तुएं जैसे कि गाय का दूध, चांदी, खीर आदि दान करने से शुभ फलों की प्राप्ती होती है।

अगला चंद्र ग्रहण अब एक साल बाद 8 नवंबर 2022 को लगेगा

मनोरंजन से जुड़ी अन्य खबरों के लिए newsindia.tv पर आएं