होम / खेल-खिलाड़ी

तेज गेंदबाज उमेश यादव प्लेइंग इलेवन से बाहर क्यों ? 

इंग्लैंड दौरे पर टीम इंडिया के गेंदबाज बहुत प्रभावी नहीं दिख रहे। ऐसे में सवाल उठना लाजमी है कि उमेश यादव जैसे तेज गेंदबाज को प्लेइंग इलेवन में क्यों नहीं शामिल किया जा रहा है।

तेज गेंदबाज उमेश यादव को प्लेइंग इलेवन से बाहर रखने पर सवाल उठने लगे हैं।

नई दिल्ली: लीड्स टेस्ट में टीम इंडिया की हार के बाद बल्लेबाजी पर सवाल उठा। अंजिक्य रहाणे, विराट कोहली और चेतेश्वर पुजारा अपने नाम के मुताबिक नहीं खेल पाए। वैसे लीड्स टेस्ट के आखिर में पुजारा के बल्ले से रन निकले। लेकिन रहाणे और कोहली कुछ खास नहीं कर पाए। वैसे ही अगर गेंदबाजी की बात करें तो टीम इंडिया के गेंदबाज भी बहुत प्रभावी नहीं दिख रहे। सिराज की गेंदबाजी अच्छी रही है लेकिन शमी, बुमराह और ईशांत कुछ खास कमाल नहीं दिखा सके। ऐसे में सवाल उठना लाजमी है कि उमेश यादव जैसे तेज गेंदबाज को प्लेइंग इलेवन में क्यों नहीं शामिल किया जा रहा है। 

स्पीड और स्विंग में माहिर है उमेश 

तेज गेंदबाज उमेश यादव अपनी स्पीड के लिए जाने जाते हैं। उनके पास स्विंग और स्पीड दोनों की धार है। उमेश टीम इंडिया के उन बॉलर्स में शुमार हैं, जो 150 किलोमीटर की रफ्तार से गेंद डाल सकते हैं। इंग्लैंड का ठंडा मौसम तेज गेंदबाजों के लिए मुफीद माना जाता है। क्योंकि ऐसे मौसम में गेंद को स्विंग कराना काफी आसान होता है। इसके साथ इंग्लैंड के पिच में उछाल भी तेज गेंदबाजों के लिए मददगार साबित होता है। इस लिहाज से उमेश यादव जब गेंद डालने की लिए उतरेंगे तो बहुत मुमकिन है कि इंग्लिश बल्लेबाजी की परेशानी बढ़ सकती है। 

उमेश का टेस्ट में बेहतर परफॉरमेंस

उमेश यादव ने टेस्ट में क्रिकेट में 2011 में वेस्टइंडीज के खिलाफ अपना डेब्यू किया। अब तक 48 टेस्ट खेल चुके उमेश यादव 148 विकेट झटक चुके हैं। उन्होंने तीन बार 5 और एक बार 10 विकेट झटके हैं। बात फॉरेन टूर की करें तो विदेशी जमीन पर उमेश ने 20 टेस्ट मैचों में 52 विकेट लिए हैं। इंग्लैंड में ईशांत शर्मा एक-एक विकेट के लिए संघर्ष करते दिख रहे हैं। ऐसे में उमेश यादव टीम इंडिया के लिए विकेट टेकर साबित हो सकते हैं।

छक्के लगाने में भी माहिर हैं उमेश

टीम इंडिया के लिए लोअर ऑर्डर बल्लेबाज उमेश यादव लंबे छक्के लगाने के लिए भी मशहूर हैं। उन्हें बल्लेबाजी का ज्यादा मौका नहीं मिलता है। 48 टेस्ट में उमेश ने महज 55 पारियां खेली हैं और 359 रन बनाए हैं। वैसे उमेश का बेस्ट स्कोर 31 है, लेकिन उन्होंने 359 रनों में 17 लंबे छक्के जड़े हैं।

इंग्लिश बल्लेबाजों पर बरपा सकते हैं कहर

उमेश यादव ने इंग्लैंड के खिलाफ महज सात टेस्ट मैच खेले हैं। जिसमें उन्होंने 15 विकेट चटकाएं हैं। उनकी स्विंग और उछाल भरी गेंद इंग्लैंड के बल्लेबाजों के लिए मुश्किल पैदा कर सकती है। हेडिंग्ले टेस्ट में ईशांत शर्मा की गेंदबाजी में धार काफी कम दिखी। जिसका फायदा अंग्रेजों ने जमकर उठाया और विशाल स्कोर खड़ा करने में कामयाब रहे। इसे देखते हुए चौथे टेस्ट में अगर उमेश यादव को शामिल किया जाता है तो वे टीम इंडिया के लिए उपयोगी हो सकते हैं। 

You can share this post!

Paralympic: उधार की राइफल से जीता पहला मेडल; आज हैं इंडिया की गोल्डन गर्ल

शाहिद अफरीदी का तालिबान के समर्थन में बयान, कहा- पॉजिटीविटी नजर आ रही है

Leave Comments