होम / खेल-खिलाड़ी

सुनील गावस्कर ने कहा 26/11 के हमले के बाद इंग्लैंड ने जो किया, उसे भारतीय क्रिकेट टीम न भूले

भारत और इंग्लैंड के बीच पांचवें टेस्ट को Covid​​-19 की आशंकाओं का हवाला देते हुए रद्द कर दिया गया था। भारत इस सीरीज में 2-1 से आगे है। पूर्व भारतीय कप्तान और बैटिंग लेजेंड सुनील गावस्कर ने इस पर अपनी राय पेश की है।

सुनील गावस्कर ने कहा 26/11 के हमले के बाद इंग्लैंड ने जो किया, उसे भारतीय क्रिकेट टीम न भूले

नई दिल्ली: भारत और इंग्लैंड के बीच पांचवें टेस्ट को Covid​​-19 की आशंकाओं का हवाला देते हुए रद्द कर दिया गया था। भारत इस सीरीज में 2-1 से जीत गई है। पूर्व भारतीय कप्तान और बैटिंग लेजेंड सुनील गावस्कर ने इस पर अपनी राय पेश की है। भारत और इंग्लैंड के बीच शुक्रवार को मैच शुरू होने से पहले मेहमान टीम में एक कोविड के केस पाए जाने के बाद पांचवां टेस्ट रद्द कर दिया गया था। भारतीय टीम के कोच रवि शास्त्री भी इस समय आइसोलेशन में हैं।


कल सुबह खबर आई थी कि सभी खिलाड़ी कोरोना निगेटिव हैं। ऐसे में मानचेस्टर में खेले जाने वाले पांचवें टेस्ट मैच को थोड़ी देर से ही सही, शुरू होना था। ईसीबी और बीसीसीआई ने बातचीत करने के बाद पांचवें टेस्ट मैच को रद्द कर दिया। कई शीर्ष भारतीय खिलाड़ी इस मैच में खेलने को इच्छुक नहीं थे। खुद ईसीबी ने ट्विटर पर मैच के रद्द होने की जानकारी दी। मैच रद्द होने के बाद गावस्कर ने कहा की भारतीय टीम को 26/11 के बाद इंग्लैंड की टीम के रवैये को नहीं भूलना चाहिए।

 

इंगलैंड टीम ने 26/11 के बाद पेश की थी मिसाल

बैटिंग लेजेंड सुनील गावस्कर ने भारत और इंग्लैंड के बीच पांचवें टेस्ट को Covid​​-19 की आशंकाओं के कारण रद्द होने पर 2008 के इंग्लैंड के भारत दौरे का एक उदाहरण दिया। 2008 में केविन पीटरसन के नेतृत्व में इंग्लैंड की टीम ने मुंबई में हुए 26/11 के मुंबई में हुए आतंकी हमलों के कारण वापस ब्रिटेन जाने का फैसला किया था। बचे हुए दो मैचों की टेस्ट सीरीज़ को फिर से शुरू करने के लिए इंग्लैंड की टीम अगले महीने वापस भारत आ गई थी।

गावस्कर ने कहा "हम भारतीयों को यह कभी नहीं भूलना चाहिए कि इंग्लैंड की टीम 2008 के भीषण हमलों के बाद वापस आई थी। इंगलैंड की टीम यह कहने की पूरी तरह से हकदार थी  कि 'हम वापस आने के लिए सहज नहीं हैं'। गावस्कर ने कहा, हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि यदि केपी ने कहा होता कि 'मैं नहीं जाना चाहता' तो वह दौरा वहीं खत्म हो जाता। इंग्लैंड की टीम आई और हमे पास चेन्नई में वह शानदार टेस्ट मैच मिला, जहां भारत ने जीत के लिए 5 वें दिन 380 रनों के टारगेट को चेज किया। 2008 की सीरीज का दूसरा टेस्ट मुंबई से चेन्नई शिफ्ट कर दिया गया था। गावस्कर का कहना है कि मैच को रद्द करने की जगह उसे फिर से किसी और दिन के लिए तय  कर देना चाहिए।

You can share this post!

कोरोना के खतरे की वजह से पांचवां टेस्ट मैच रद्द, भारत ने 2-1 से जीती सीरीज

नीरज चोपड़ा ने अपने माता-पिता को पहली बार कराई हवाई सैर

Leave Comments