होम / खेल-खिलाड़ी

International Cricket के साथ ही IPL को भी अलविदा कहेंगे टर्बिनेटर, करेंगे ये काम

हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) ने मात्र 18 साल की उम्र में टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू किया था। उन्होंने पहला मैच साल 19998 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बेंगलुरु में खेला था।

तस्वीर: Facebook/Harbhajan Singh

नई दिल्ली: दुनिया के सबसे खतरनाक ऑफ स्पिनर्स में शुमार हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) इंटरनेशनल क्रिकेट से काफी समय से दूर हैं। साथ ही वो आईपीएल में शामिल तो हैं, लेकिन खेलने का मौका बहुत मुश्किल से मिल रहा है। ऐसे में वो इंटरनेशनल क्रिकेट के साथ ही आईपीएल से भी सन्यास लेने जा रहे हैं। दरअसल, ऐसा करने के पीछे बड़ी बजह है। जिसमें वो भले ही मैदान पर न दिखें, लेकिन मैदान के बाहर वो बड़ी भूमिका निभाने को तैयार हैं।

कई आईपीएल टीमों ने साधा है संपर्क

जानकारी के मुताबिक, हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) की कई फ्रेंचाइजी मालिकों के साथ बातचीत चल रही है, जिसमें उन्हें टीम के मेंटोर से लेकर टैलेंट खोजने तक का काम दिया जा रहा है। वो टीमों के चयन में भी अहम भूमिका निभाएंगे, साथ ही कोचिंग को लेकर भी उन्हें कई टीमों ने अप्रोच किया है। भारतीय क्रिकेट से जुड़े सूत्रों ने बताया कि हरभजन सिंह अब सन्यास लेने का इरादा बना चुके हैं, ताकि वो अपने करियर को नई दिशा दे सकें। हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) अब बड़ी भूमिका निभाने को तैयार हैं। ऐसे में वो अब जल्द ही सन्यास की घोषणा कर देंगे, ताकि अपने नए काम पर ध्यान दे सके। इसके अलावा वो इसलिए भी ऐसा करने की सोच रहे हैं, ताकि अपने परिवार को समय दे सकें।

ऐसा रहा है हरभजन सिंह का करियर

हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) ने मात्र 18 साल की उम्र में टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू किया था। उन्होंने पहला मैच साल 19998 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बेंगलुरु में खेला था। सिंह ने अपने टेस्ट करियर में कुल 413 विकेट लिये। अपनी धारदार गेंदबाजी से बल्लेबाजों को बहुत परेशान करने वाले हरभजन के नाम कई रिकॅार्ड दर्ज है। उन्होंने 25 बार पारी में 5 से ज्यादा विकेट चटकाए। इसके अलावा 5 बार उन्होंने एक टेस्ट मैच में 10 से अधिक विकेट लेने का कारनामा किया है। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मशहूर कोलकाता टेस्ट मैच में हैट्रिक ली थी और 16 मैचों से चले आ रहे ऑस्ट्रेलियाई जीत के जीत के दबदबे को समाप्त किया था। उसी मैच में वीवीएस लक्ष्मण ने 281 रन बनाने का कारनामा किया था और टीम इंडिया ने फॉलोआन खेलने के बावजूद वो टेस्ट मैच जीता था। हरभजन ने करियर का आखिरी टेस्ट मैच श्रीलंका में साल 2015 में खेला था, उसके बाद से वो टेस्ट टीम से बाहर चल रहे थे।

ऐसा रहा हरभजन का ओडीआई करियर

हरभजन सिंह ने ओडीआई करियर की शुरुआत साल 1998 में ही न्यूजीलैंड (New Zeeland) के खिलाफ शारजाह में की थी। हरभजन ने 236 मैचों में 269 विकेट लिये। हरभजन ने 3 बार पारी में पांच विकेट लिये और 5/31 उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा। उन्होंने 28 टी-20 इंटरनेशनल मैच भी खेले हैं, जिसमें उन्होंने 25 विकेट लिये। आखिरी बार हरभजन सिंह ने टीम इंडिया के लिए साल 2016 में टी-20 मैच खेला था। 

आईपीएल के टॉप 5 विकेट टेकर्स की लिस्ट में है नाम

हरभजन सिंह आईपीएल के टॉप विकेट टेकर्स की लिस्ट में भी हैं। उन्होंने 163 मैचों में 150 विकेट लिये हैं। हरभजन सिंह चेन्नई सुपरकिंग्स (Chennai Superkings) और मुंबई इंडियंस (Mumbai Indians) की तरफ से आईपीएल ट्रॉफियां भी जीती हैं। वो आल टाइम विकेट टेकर्स की लिस्ट में पांचवें नंबर पर हैं। आईपीएल में 4 खिलाड़ियों लसिथ मलिंगा, ड्वेन ब्रावो, अमित मिश्रा और पीयूष चावला ने ही उनसे ज्यादा विकेट लिये हैं। 

You can share this post!

Ban Vs Pak Test: साजिद खान ने बांग्लादेश को फिरकी में फंसाया, पाकिस्तान को मिली जीत की खुशबू!

एशेज: इंग्लैंड ने घोषित की 12 सदस्यीय टीम, स्टोक्स की वापसी; एंडरसन बाहर

Leave Comments