होम / साइंस एंड टेक्नोलॉजी

गोल्डन ब्लड के नाम से मशहूर, दुनिया में केवल 43 लोगों के शरीर में मौजूद पाया गाया ये ब्लड

हमारे मानव शरीर को संचालन के लिए रक्त यानी खून की आवश्यक्ता होती है। आमतौर पर तो हम सभी ने A, B, AB, 0+ और निगेटिव जैसे कई ब्लड ग्रुप्स के बारे में सुना होगा

नई दिल्ली: हमारे मानव शरीर को संचालन के लिए रक्त यानी खून की आवश्यक्ता होती है आमतौर पर तो हम सभी ने A, B, AB, 0+ और निगेटिव जैसे कई ब्लड ग्रुप्स के बारे में सुना होगा लेकिन एक ब्लड ग्रुप ऐसा भी है जिसके बारे में लोगों को ज्यादा जानकारी नहीं है  इसे काफी लोगों के शरीर में पाया जाता है इसलिए इसे गोल्डन ब्लड भी कहा जाता है आइए जानते हैं गोल्डन ब्लड के बारे में।

इसका असली नाम आरएच नल है। सबसे रेयर होने की वजह से शोध कर रहे वैज्ञानिकों ने इसे गोल्डन ब्लड नाम दिया है। यह खून बेशकीमती होता है क्योंकि इसे किसी भी ब्लड ग्रुप पर चढ़ाया जा सकता है। यह हर ब्लड ग्रुप के साथ आसानी से मैच हो जाता है। यह सिर्फ उन्हीं लोगों के शरीर में पाया जाता है, जिनका Rh फैक्टर null होता है,यानी Rh-null 

क्या होता है Rh फैक्टर?

Rh Factor लाल रक्त कोशिकाओं की सतह पर पाया जाने वाला एक विशेष प्रोटीन है अगर यह प्रोटीन RBC में मौजूद है तो ब्लड Rh+ Positive होता है इसके उलट अगर प्रोटीन उपस्थित नही है तो ब्लड निगेटिव होगा इस प्रोटीन को RhD एंटीजन भी कहते है लेकिन इस खास ब्लड ग्रुप वाले लोगों में Rh फैक्टर ना ही पॉजिटिव होता है और ना ही निगेटिव वो Null होता है। 

एंटीजन रहित खून 

कई लोगों को गोल्डन ब्लड  की ज्यादा जानकारी नहीं है आपको यह जानकर हैरानी होगी कि इस ब्लड ग्रुप में किसी भी तरह का एंटीजन नहीं पाया जाता है यूएस रेयर डिसीज इन्फॉर्मेशन सेंटर के अनुसार,गोल्डन ब्लड ग्रुप एंटीजन से रहित होता है इसलिए जिन लोगों के शरीर में यह खून होता है,उन्हें एनीमिया की शिकायत हो सकती है यही वजह है कि ऐसे लोगों की जानकारी होते ही डॉक्टर उन्हें डाइट पर खास ध्यान देने और आयरन वाली चीजों का ज्यादा से ज्यादा सेवन करने की सलाह देते हैं। 

इस वजह से सहेजा जाता है गोल्डन ब्लड

जैसा कि हमने बताया कि यह खास ब्लड सिर्फ 43 लोगों में पाया गया है तो स्वाभाविक है कि उनका डोनर ढूंढना भी मुश्किल है साथ ही यह खून ऐसा है कि इंटरनेशनल लेवल पर ट्रांसपोर्ट करना भी मुश्किल है इसलिए इस खून के साथ जीने वाले लोग समय-समय पर अपने खून का दान करते रहते हैं ताकि वह ब्लड बैंक में जमा रहे इसे किसी और को नहीं दिया जाता जरूरत पड़ने पर उन्हें खुद ही यह खून दिया जाता है।

You can share this post!

5G टेक्नोलॉजी से आखिर एयरोप्लेन को ,कैसे हुआ खतरा जानिये।

ज्यादा तेजी से ठंडा हो रहा धरती का केंद्र, मंगल ग्रह बन जाएगी पृथ्वी

Leave Comments