होम / बात देश की

धार्मिक पीठों को संस्कृत विद्यालय खोलने की योगी की सलाह, क्या है इरादा ! जानिए..

CM योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हर धार्मिक पीठ संस्कृत विद्यालय खोले। सरकार इसमें हर-संभव मदद करने का प्रयास करेगी। संस्कृत और संस्कृति को प्रोत्साहन हमारे आश्रमों को देना होगा।

CM योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हर धार्मिक पीठ संस्कृत विद्यालय खोले.

गोरखपुर: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हर धार्मिक पीठ संस्कृत विद्यालय खोले। सरकार इसमें हर-संभव मदद करने का प्रयास करेगी। संस्कृत और संस्कृति को प्रोत्साहन हमारे आश्रमों को देना होगा। संस्कृत को बढ़ावा देने के लिये योग्यता के आधार पर शिक्षकों का चयन करना होगा। अयोग्य व्यक्ति संस्था को नष्ट कर सकता है। ऐसी स्थिति में योग्य व्यक्ति को तराशने की जिम्मेदारी धर्माचार्यों, मठाधिपतियों की होनी चाहिए। इससे संस्कृत, संस्कृति के साथ गौरक्षा भी होगी।

ब्रह्मलीन महन्त दिग्विजय नाथ जी महाराज एवं ब्रह्मलीन महन्त अवेद्यनाथ जी महाराज की पुण्यतिथि के अवसर पर गोरखपुर के गोरखनाथ मन्दिर में आयोजित हुई साप्ताहिक श्रद्धांजलि सभा में योगी आदित्यनाथ ने संस्कृत विद्यालयों के महत्व को रेखांकित किया। साप्ताहिक श्रद्धांजलि सभा में भारत के विभिन्न राज्यों से सन्तों ने हिस्सा लिया। 

इस अवसर पर साप्ताहिक श्रीराम कथा रामानुजाचार्य स्वामी वासुदेवाचार्य जी महाराज ने किया। जगद्गुरु शंकराचार्य वासुदेवानन्द सरस्वती जी महाराज प्रयागराज, जगद्गुरु रामनुजाचार्य स्वामी विश्वेश प्रपन्नाचार्य जी महाराज, अलवर के सांसद बालकनाथ जी, श्रीपंचदशनाम जूना अखाड़ा के अन्तर्राष्ट्रीय प्रवक्ता श्रीमहन्त नारायण गिरि जी महाराज, श्री दूधेश्वर मठ गाजियाबाद स्वामी विद्याचैतन्य जी नैमिषारण्य सहित उपस्थित सन्तों ने अपनी श्रद्धांजलि अर्पित किया। योगी आदित्यनाथ ने इस अवसर आए हुए सभी सन्तों का अभार व्यक्त किया।

 

योगी आदित्यनाथ ने इस मौके पर दुनिया भर में योग को ऊंचा स्थान दिलाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया। CM योगी ने कहा कि कोरोना के समय में पूरी दुनिया को भारत के आयुर्वेद का महत्व पता चल गया है। अमेरिका सहित दुनिया के हर विकसित देश में आज तुलसी, हल्दी जैसे पौधों के औषधिय गुणों को मान्यता मिली है। भारतीय संस्कृति में तुलसी पूजा का प्रचलन है। 

ये भी पढ़ें: UNSC वीटो पॉवर: भारत के दावे को बाइडेन के समर्थन की बड़ी वहज जानिए..

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हजारों साल से चल रहे कुंभ को यूनेस्को ने विश्व अमूर्त विरासत सूची में शामिल किया है। जबकि कुंभ तो सनातन परंपरा का हिस्सा है। योगी ने विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए कहा कि पहले की सरकारों में आतंकवादियों पर से मुकदमा हटा लिया जाता था। जबकि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में संतों के मार्गदर्शन में सरकार कानून-व्यवस्था कायम रखने के लिए लगातार काम रही है। 
 

You can share this post!

राहुल-प्रियंका से सचिन पायलट की लंबी मुलाकात, क्या हो सकते हैं मायने! जानिए..

टीएस सिंहदेव ने ऐसा क्या कहा जिससे छत्तीसगढ़ में मची खलबली, जानिए..

Leave Comments