होम / बात देश की

राहुल-प्रियंका से सचिन पायलट की लंबी मुलाकात, क्या हो सकते हैं मायने! जानिए..

राहुल-प्रियंका से सचिन पायलट की शुक्रवार को लंबी मुलाकात के बाद जयपुर से दिल्ली तक सियासी हलचल तेज हो गई है। एक हफ्ते में शीर्ष पार्टी नेतृत्व से सचिन पायलट की ये दूसरी मुलाकात है।

विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी से मिलकर सचिन पायलट पहुंचे थे दिल्ली.

जयपुर: पंजाब के बाद राजस्थान में सियासी हलचल तेज हो गई है। जयपुर से दिल्ली तक सियासी दौड़ शुरू हुई है। गुरुवार को पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी से मुलाकात करने के बाद शुक्रवार अचानक दिल्ली में 12 तुगलक लेन पहुंच कर राहुल गांधी से मुलाकात की। वहीं पर मौजूद प्रियंका गाँधी से भी पायलट ने मुलाकात की। काफी देर तक तीनों के बीच महत्वपूर्ण बैठक हुई। सूत्रों के मुताबिक राजस्थान में मंत्रिमंडल विस्तार और राजनीतिक नियुक्तियों समेत पीसीसी  संगठन विस्तार को लेकर तीनों नेताओं में चर्चा हुई। 

सूत्रों के अनुसार सचिन पायलट को कांग्रेस संगठन में बड़ी जिम्मेदारी मिल सकती है। जबकि सचिन पायलट ने राजस्थान सरकार के मन्त्रिमण्डल विस्तार में अपने समर्थक विधायकों को जगह दिलाने के लिए सिफारिश की। पायलट राजनीतिक नियुक्तियों में अपने समर्थकों को जगह दिलाने के लिए लगातार प्रयास कर रहे हैं। इन तमाम मुद्दों पर हुई बैठक में संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल भी मौजूद रहे। 

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच सियासी जंग को खत्म करने के लिए वेणुगोपाल लगातार प्रयास कर रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक राजस्थान का मसला सुलझाने की कवायद तेज कर दी गई है। राहुल गांधी, प्रियंका गांधी और सचिन पायलट की मुलाकात से राजस्थान का सियासी संकट सुलझने की पुरी गुंजाइश है। सूत्रों की मानें तो अगले महीने मन्त्रिमण्डल विस्तार, राजनीतिक नियुक्तियां और संगठन विस्तार होना संभव है। 

 

सचिन पायलट से पहले गहलोत सरकार के मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने राहुल गांधी से दिल्ली में 12 तुगलक लेन पर मुलाकात की थी। रघु शर्मा की राहुल गांधी से इस मुलाकात को मंत्रिमंडल विस्तार से जोड़कर  देखा जा रहा है। पिछले दिनों से चर्चा चली थी कि मंत्रिमंडल विस्तार में कुछ मंत्रियों की छुट्टी हो सकती है। ऐसे में मंत्री रघु शर्मा की राहुल गांधी से मुलाकात को भी इससे जोड़ा जा रहा है।

ये भी पढ़ें: UNSC वीटो पॉवर: भारत के दावे को बाइडेन के समर्थन की बड़ी वहज जानिए..

प्रमोद कृष्णम ने की सचिन पायलट की खुलकर पैरवी

जबकि गांधी परिवार के करीबी आचार्य प्रमोद कृष्णम ने सचिन पायलट की खुलकर पैरवी की है। उन्होंने कहा कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पहले भी कई बार कह चुके हैं कि नए लोगों को पार्टी और सरकार में आगे आना चाहिए। अब गहलोत को अपने बयान का सम्मान करना चाहिए। आचार्य प्रमोद ने कहा कि सचिन पायलट और कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व के बीच करीब 3 घंटे मुलाकात चली है। इससे बहुत कुछ साफ हो जाता है।   

You can share this post!

पिछले 24 घंटों में कोरोना के 30 हजार से कम मामले, 290 मौतें

धार्मिक पीठों को संस्कृत विद्यालय खोलने की योगी की सलाह, क्या है इरादा ! जानिए..

Leave Comments