होम / बात देश की

Mi-17 हेलीकॉप्टर क्रैश की जांच पूरी, रिपोर्ट में हुआ ये खुलासा

दुर्घटनाग्रस्त हेलीकॉप्टर के चालक दल के सभी सदस्य मास्टर ग्रीन केटेगरी में शामिल पायलट थे और उनको खराब मौसम वाली स्थितियों से निपटने का बहुत अच्छा अनुभव था।

नई दिल्ली: इंडियन एयरफोर्स के चीफ एयर मार्शल विवेक राम चौधरी, डिफेंस सेक्रेट्री अजय कुमार और तीनों सेनाओं की ज्वाइंट इंक्वायरी कमेटी के चीफ एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को Mi-17 हेलीकॉप्टर क्रैश की रिपोर्ट सौंपी। तीनों सेनाओं की संयुक्त जांच टीम ने सेना के वरिष्ठ अधिकारियों और मंत्रियों की उड़ान के दौरान कुछ जरूरी उपायों के बारे में भी सिफारिशें की हैं। सूत्रों के अनुसार रक्षामंत्री को हादसे के बारे में बताया गया कि उड़ान के दौरान घने कोहरे के कारण Mi-17V5 हेलीकॉप्टर एक रेलवे लाइन को फॉलो कर रहा था। इस दौरान हेलीकॉप्टर बहुत कम ऊंचाई पर उड़ रहा था। हेलीकॉप्टर के सभी पायलटों को इलाके के बारे में जानकारी थी। उन लोगों ने घने कोहरे के बावजूद हेलीकॉप्टर को लैंड कराने के बजाय बादलों के बीच से निकलने का फैसला किया। इस दौरान वो एक पहाड़ी चट्टान से टकरा गया। जिसके कारण यह दुर्घटना हुई। सूत्रों ने कहा कि दुर्घटनाग्रस्त हेलीकॉप्टर के चालक दल के सभी सदस्य मास्टर ग्रीन केटेगरी में शामिल पायलट थे और उनको इस तरह के खराब मौसम वाली स्थितियों से निपटने का बहुत अच्छा अनुभव था।

You can share this post!

देश में कोरोना का कहर जारी, मुंबई के जेजे अस्पताल में 61 डॉक्टर हुए कोरोना पॉजिटिव

Aadhaar Card में अब आप बदल सकते हैं अपनी फोटो, जानें क्या है आसान तरीका

Leave Comments