होम / बात देश की

ममता लगा रहीं कांग्रेस में सेंध, मेघालय में कांग्रेस के 17 में से 12 विधायकों को तोड़ा

टीएमसी हाल के दिनों में कांग्रेस के कई नेताओं को अपने पाले में शामिल कर चुकी है। इनमें सुष्मिता देव, गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री लुइजिन्हो फ्लेरियो और कीर्ति आजाद शामिल हैं।

ममता बनर्जी

नई दिल्ली : भाजपा के बाद अब तृणमूल कांग्रेस (TMC) ने कांग्रेस पार्टी को कमजोर करने का अभियान बहुत तेजी से छोड़ दिया है। तृणमूल कांग्रेस लगातार कांग्रेस के नेताओं को अपने पाले में खींचती जा रही है। ताजा घटनाक्रम में सूत्रों के अनुसार मेघालय के 17 में से 12 कांग्रेसी विधायक तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं। गौरतलब है कि कांग्रेस के मेघालय के इंचार्ज मनीष चतरथ गुरुवार को मेघालय जा सकते हैं। चतरथ के करीबी सूत्रों ने कहा है कि उन्होंने अपने  गुजरात के दौरे को रद्द कर दिया है। मनीष चतरथ गुजरात में अहमद पटेल की पहली बरसी के कार्यक्रम में जाने वाले थे।

सूत्रों के अनुसार मनीष चतरथ कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को इस पूरे मामले पर एक विस्तृत रिपोर्ट देंगे। इससे पहले कांग्रेस के महासचिव केसी वेणुगोपाल ने 18 नवंबर को AICC हेडक्वार्टर में एक बैठक की थी, जिसमें मनीष चतरथ ने मेघालय के हाल के उपचुाव में कांग्रेस के प्रदर्शन का मूल्यांकन किया था। इस बैठक में पार्टी के मेघालय के नेता भी शामिल थे। मेघालय राज्य कांग्रेस के अध्यक्ष विंसेंट एच पाला, मुकुल संगमा और एम अर्नपरीन लिंगदोह भी शामिल थे। मेघालय में सत्ताधारी नेशनल पीपुल्स पार्टी ने 30 अक्टूबर को हुए उपचुनाव में जीत हासिल की है। 

गौरतलब है कि टीएमसी हाल के दिनों में कांग्रेस के कई नेताओं को अपने पाले में शामिल कर चुकी है। असम के सिलचर से कांग्रेसी सांसद और ऑल इंडिया महिला कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सुष्मिता देव ने अगस्त में टीएमसी ज्वाइन की थी। इसके बाद गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री लुइजिन्हो फ्लेरियो ने भी कांग्रेस को छोड़कर टीएमसी का हाथ पकड़ लिया। इन दोनों को राज्यसभा सांसद बना दिया गया है। गोवा में 2022 में विधानसभा के चुनाव होने वाले हैं और फ्लेरियो के बाद कई कांग्रेसी नेताओं ने तृणमूल कांग्रेस ज्वाइन की।

ये भी पढ़ें : कर्नाटक में ACB की छापेमारी : VIDEO में देखें कैसे ड्रेनेज पाइप से बरसे नोट

जबकि दिल्ली में कीर्ति आजाद और हरियाणा के पूर्व अध्यक्ष अशोक तंवर ने टीमसी का दामन थाम लिया है। तंवर एक समय पर राहुल गांधी के करीबी सहयोगी थे। यूपी में भी अक्टूबर में कांग्रेस के दो बड़े नेताओं राजेशपति त्रिपाठी और ललितपति त्रिपाठी ने तृणमूल कांग्रेस ज्वाइन कर ली थी। राजेशपति पूर्व विधायक हैं और ललितपति कांग्रेस यूपी के पूर्व उपाध्यक्ष और एमएलए रह चुके हैं। राजेशपति और ललितपति दोनों ही उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलापति त्रिपाठी के प्रपौत्र हैं।

Related Tags:
meghalaya -congress -TMC -MLAs -Manish-Chatrath -Mukul-Sangma -मेघालय -कांग्रेस -टीएमसी -विधायक -मनीष-चतरथ -मुकुल-संगमा

You can share this post!

जेवर एयरपोर्ट के शिलान्यास के बाद बोले PM मोदी- NCR सहित पश्चिमी UP के लोगों को होगा फायदा

Corona Virus Highlights: भारत में पिछले 24 घंटों में कुल 9,119 नए मामले 396 लोगों की मौत

Leave Comments