होम / बात देश की

कितने दिन और चलेगा आंदोलन, अब क्या हैं किसानों की मांगे

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत का तो साफ कहना है कि अगर एमएसपी को भी कानूनी अधिकार बना दिया जाए तो किसानों की दुविधा और शंका बहुत हद तक खत्म हो जाएगी।

नई दिल्ली: गुरु नानक देव जी के प्रकाश पर्व पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भले ही तीनों विवादास्पद कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा कर दी है, इसके बावजूद किसान नेताओं और संगठनों का भरोसा प्रधानमंत्री मोदी पर पूरी तरह जम नहीं रहा है। इन लोगों का साफ कहना है कि जब तक संसद में इन कानूनों को औपचारिक तौर पर रद्द नहीं कर दिया जाता, वो अपना आंदोलन बंद नहीं करेंगे। भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत का तो साफ कहना है कि अगर एमएसपी को भी कानूनी अधिकार बना दिया जाए तो किसानों की दुविधा और शंका बहुत हद तक खत्म हो जाएगी। उन्होंने कहा कि हम अभी सरकार से बातचीत करने के इच्छुक हैं ताकि किसानों को एमएसपी की कानूनी गारंटी हो जाए।   

Related Tags:
Bharatiya-Kisan-Union -Rakesh-Tikait -MSP -Legal-Rights -Prime-Minister-Narendra-Modi -Three-Agricultural-Laws -भारतीय-किसान-यूनियन -राकेश-टिकैत -एमएसपी -कानूनी-अधिकार -प्रधानमंत्री-नरेंद्र-मोदी -तीन-कृषि-कानून

You can share this post!

राजस्थान में मंत्रिमंडल पुनर्गठन की कवायद तेज, अटकलबाजी का दौर जोरों पर

हमारा लक्ष्य लोगों को बेहतर इंसान बनाना, धर्म परिवर्तन नहीं: RSS प्रमुख मोहन भागवत

Leave Comments