होम / बात देश की

स्वास्थ्य मंत्रालय ने इन दो Corona वैक्सीन्स को दी मंजूरी

कोरोना से जंग के बीच स्वास्थ्य मंत्रालय ने इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए दो और वैक्सीन्स को मंजूरी दी। इसका इस्तेमाल इमरजेंसी की स्थिति में व्यस्क कोविड मरीजों के इलाज में किया जाएगा।

सांकेतिक चित्र

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के संक्रमण से लोगों को सुरक्षित रखने के लिए दुनियाभर में वैक्सीनेशन की रफ्तार को तेज कर दिया गया है। विशेषज्ञों के मुताबिक कोरोनावायरस वैक्सीन, गंभीर संक्रमण से सुरक्षा देने के साथ मौत के खतरे को कम करने में सहायक हो सकती हैं। शरीर में वायरस के खिलाफ एंटीबॉडीज बनाने में भी वैक्सीन को काफी कारगर माना जाता है। भारत ने आज दो और कोविड टीके और एक गोली को मंजूरी दे दी है। कोरोना से जंग के बीच केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (CDSCO) से आपात मंजूरी मिल गई है। स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया इन वैक्सीन के बारे में जानकारी दी है।

स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने इसकी जानकारी ट्वीट करके दी कि ये दो वैक्सीन के नाम हैं- CORBEVAX और  COVOVAX।  CORBEVAX और  COVOVAX के अलावा एक एंटी वायरल ड्रग Molnupiravir को भी मंजूरी दी गई है। Molnupiravir एक एंटी वायरल ड्रग है, जिसे अब देश में 13 कंपनियां बनाएंगी। इसका इस्तेमाल इमरजेंसी की स्थिति में व्यस्क कोविड मरीजों के इलाज में किया जाएगा। इसके बाद टीकाकरण की रफ्तार और तेज हो जाएगी।

Covovax-Corbevax वैक्सीन 

 

CORBEVAX वैक्सीन भारत की पहला स्वदेशी रूप से विकसित RBD प्रोटीन सब-यूनिट वैक्सीन है जो कोरोना से मुकाबले के लिए हैदराबाद स्थित फर्म बायोलॉजिकल-ई ने बनाई है। यह अब भारत में विकसित हुई तीसरी वैक्सीन है। जबकि नैनोपार्टिकल वैक्सीन  COVOVAX को पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट बनाएगा।
 

DCGI के पास भेजी गईं सिफारिशें

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि केन्द्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (CDSCO) की कोविड-19 पर विषय विशेषज्ञ समिति (SEC) ने सोमवार को देश में कोविड की दवा molanupiravir की आपात स्थिति में नियंत्रित उपयोग की सिफारिश की। इमरजेंसी स्थिति में दवा का उपयोग कोविड-19 के वयस्क मरीजों पर ‘‘एसपीओ2’’ 93% के साथ किया जा सकेगा और उन मरीजों को यह दवा दी जा सकेगी जिनको बीमारी से बहुत ज्यादा खतरा हो। 

इससे पहले देश के केंद्रीय औषधि प्राधिकरण की एक विशेषज्ञ समिति ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) के कोविड-19 टीके 'कोवोवैक्स' को कुछ शर्तों के साथ इमरजेंसी उपयोग की अनुमति देने की अनुशंसा की थी। SII में सरकारी और नियामक मामलों के निदेशक प्रकाश कुमार सिंह ने अक्टूबर में भारत औषधि नियंत्रक (DCGI) को एक आवेदन दिया था, जिसमें आपातकालीन स्थितियों में कोवोवैक्स के सीमित उपयोग को मंजूरी देने का अनुरोध किया गया था।
विशेषज्ञ समिति ने 27 नवंबर को SII के आवेदन पर मूल्यांकन और विचार-विमर्श किया था और दवा कंपनी से अतिरिक्त जानकारी देने को कहा था। बता दें कि 15 से 18 साल वाले 1 जनवरी से 'कोविन' पोर्टल पर वैक्सीन के लिए रजिस्ट्रेशन करा सकेंगे। उनके लिए टीके का विकल्प केवल 'कोवैक्सीन' होगा। 3 जनवरी से बच्चों का कोविड वैक्सीन शुरू करने की तैयारी चल रही है।


 

You can share this post!

पंजाब चुनाव के लिए AAP ने कि उम्मीदवारों की सूची जारी, चन्नी के खिलाफ इन्हें मिला टिकट

कोविड के बढ़ते मामलों के बीच दिल्ली में जारी येलो अलर्ट: सीएम केजरीवाल

Leave Comments