होम / बात देश की

बीजेपी में शामिल हुए पूर्व क्रिकेटर दिनेश मोंगिया, कांग्रेस और अकाली दल को भी भाजपा ने दिया झटका

भाजपा में शामिल हुए है, पूर्व क्रिकेटर दिनेश मोंगिया जिसके कारण कांग्रेस और अकाली दल को भी बढ़ा झटका लगा है।

फोटोः ट्विटर

नई दिल्ली : पंजाब विधान सभा चुनाव को लेकर भाजपा का विस्तार अभियान लगातार जारी है। मंगलवार को पूर्व अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेटर दिनेश मोंगिया के साथ-साथ कांग्रेस और अकाली दल के कई विधायकों और दिग्गज नेताओं ने भाजपा का दामन थाम लिया। केंद्रीय मंत्री और पंजाब के चुनाव प्रभारी गजेंद्र सिंह शेखावत, भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और पंजाब प्रभारी दुष्यंत गौतम एवं भाजपा के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी अनिल बलूनी की मौजूदगी में दिनेश मोंगिया के साथ-साथ कांग्रेस और अकाली दल के दिग्गज नेताओं ने मंगलवार को पार्टी के दिल्ली मुख्यालय में भाजपा का दामन थाम लिया।

पंजाब में कांग्रेस को बड़ा झटका देते हुए भाजपा ने पंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष प्रताप सिंह बाजवा के छोटे भाई और कांग्रेस के विधायक फतेहजंग सिंह बाजवा को अपनी पार्टी में शामिल कर लिया। बाजवा के साथ ही कांग्रेस के एक अन्य विधायक बलविंदर सिंह लाडी के अलावा कांग्रेस के अन्य कई नेताओं ने भी मंगलवार को भाजपा का दामन थामा।

अकाली दल के वरिष्ठ नेता गुरतेज सिंह घुड़ीयाना और पंजाब के संगरूर से सांसद रह चुके राजदेव खालसा समेत पंजाब से जुड़े अन्य कई नेताओं और चर्चित व्यक्तियों को पार्टी में शामिल करवा कर भाजपा ने दिल्ली से पंजाब की जनता को एक बड़ा राजनीतिक संदेश देने का प्रयास किया है।

पार्टी के विस्तार अभियान में मिली इस बड़ी कामयाबी के बाद मीडिया से बात करते हुए केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने दावा किया कि पंजाब में भाजपा का प्रभुत्व बढ़ रहा है और इसी वजह से अन्य विरोधी दलों में भगदड़ मची हुई है। उन्होंने भाजपा में शामिल हुए सभी लोगों का स्वागत करते हुए कहा कि पंजाब के किसानों के लिए जिस तरह से बड़ा दिल दिखाते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने तीनों कृषि कानूनों को वापस ले लिया, उससे भी राज्य में भाजपा को लेकर उत्साह बढ़ा है। उन्होंने दावा किया कि दिनेश मोंगिया के भाजपा में शामिल होने से युवाओं का रुझान भी पार्टी की तरफ बढ़ेगा।
 

You can share this post!

देश की संसद चलती नहीं, धर्म का चोला ओढ़े लोग बोल रहे नफरत की भाषा : सचिन पायलट

चीन और पाकिस्तान से लगती सीमाओं पर आवाजाही सुनिश्चित करते हुए भारत ने बनाए 24 पुल और 3 सड़कें

Leave Comments