होम / बात देश की

यूपी में घर-घर होगी स्क्रीनिंग, सबको मिलेगी मुफ्त दवा

यूपी में कोरोनावायरस का प्रकोप बढ़ने से रोकने के लिए योगी सरकार घर-घर अभियान चलाकर टेस्टिंग और दवा वितरण करेगी।

फोटो: सोशल मीडिया

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में कोरोनावायरस से निपटने के लिए योगी सरकार महाअभियान चलाने जा रही है। इसके तहत यूपी सरकार एक बार फिर बढ़ते कोरोना और ओमीक्रोन के प्रकोप को कम करने के लिए प्रदेशव्यापी स्क्रीनिंग और दवा वितरण अभियान शुरू करने जा रही है। इस अभियान के तहत स्वास्थ्य कर्मियों की रैपिड रिस्पांस टीम (RRT) घर घर जाकर टेस्टिंग करेगी साथ ही दवाइयों का निशुल्क वितरण भी होगा।

दरअसल, सीएम योगी आदित्यनाथ द्वारा कोरोना संक्रमण पर काबू पाने के लिए 'टीम-9' का गठन किया है, जो प्रदेश में कोरोना संक्रमण के प्रकोप और वैक्सीनेशन की स्थितियों पर निगरानी रखती है। दूसरी लहर के भयानक प्रकोप में भी इसी टीम के द्वारा योगी आदित्यनाथ ने कोरोना से निपटने का काम किया था। अब जब तीसरी लहर की संभावना जताई जा रही है और प्रदेश में संक्रमित ओं की संख्या धीरे-धीरे बढ़ रही है, तो एक बार फिर यूपी गवर्नमेंट ने टीम-9 को काम पर लगा दिया है। इसी के मद्देनजर, सीएम योगी ने बुधवार को टीम के साथ बैठक की और कई दिशा निर्देश दिए।

घर-घर टेस्टिंग के दिए निर्देश

सीएम द्वारा टीम को मिले निर्देश के बाद प्रदेश में घर-घर जाकर टेस्टिंग करने की तैयारियां शुरू कर दी गई है। इसके तहत 24 से 29 जनवरी के बीच स्वास्थ्यकर्मी संदिग्ध मरीजों की घर जाकर जांच करेंगे, साथ ही उन्हें किसी तरह का खतरा ना हो या वह दूसरे लोगों को संक्रमित ना करें, इसके लिए उन्हें दवाइयों का पैकेट भी मुफ्त दिया जाएगा। इस काम को करने के लिए एक रैपिड रिस्पांस टीम बनाई गई है जो सतर्कता के साथ इस कार्य को अंजाम देगी।

अभियान की शुरुआत गांव और शहरी वार्डों से होगी

रैपिड रिस्पांस टीम से जुड़े स्वास्थ्य कर्मी घर घर जाएंगे और लक्षण युक्त लोगों की पहचान कर जरूरत के अनुसार उनका टेस्ट और मेडिकल किट उपलब्ध कराएंगे। इसके साथ ही उन लोगों की भी लिस्ट तैयार होगी जिनका टीकाकरण अभी नहीं हुआ है। इस विशेष अभियान के लिए स्वास्थ्य कर्मियों को प्रशिक्षण देना शुरू कर दिया गया है। अभियान की शुरुआत गांव और शहरी वार्डों में एक साथ शुरू होगी।

ट्रेसिंग का बड़ा महत्वपूर्ण योगदान

बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कहा कि, कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए ट्रेसिंग का बड़ा महत्वपूर्ण योगदान है। अपनी निगरानी समितियों के सहयोग से हमने पिछली लहर में भी घर-घर स्क्रीनिंग का कार्य किया, जिससे कोविड-19 नियंत्रण में सहायता मिली। इस बार भी ऐसे ही प्रयास की जरूरत है।

You can share this post!

अरुणाचल में PLA ने किया युवक का अपहरण, राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर बोला हमला

झारखंड कैबिनेट का फैसला, 7 साल में रिटायर होंगे शिक्षक, 50 फीसदी बढ़ेगा वेतन

Leave Comments