होम / बात देश की

CM योगी ने गन्ने का दाम बढ़ाया, वेस्ट यूपी के किसानों को दिया बड़ा संदेश

CM योगी ने गन्ने का समर्थन मूल्य 25 रुपये बढ़ाकर वेस्ट यूपी में चल रहे किसान आंदोलन के समर्थकों को एक बड़ा संदेश देने की कोशिश की है।

किसान सम्मेलन में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ.

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गन्ने के समर्थन मूल्य को 25 रुपये  बढ़ाकर 350 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया है। CM योगी ने इस घोषणा से वेस्ट यूपी में राकेश टिकैत के नेतृत्व में चल रहे किसान आंदोलन के समर्थकों को एक बड़ा संदेश देने की कोशिश की है। CM योगी ने लखनऊ में आयोजित किसान सम्मेलन में कहा कि किसान यूपी की अर्थव्यवस्था का आधार है।

CM योगी ने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान दुनिया परेशान थी, तब भी यूपी के किसानों ने उत्पादन बढ़ा दिया। जबकि ब्राजील जो चीनी का सबसे बड़ा उत्पादक है, वहां उद्योग ठप हो गया। महाराष्ट्र की आधी से अधिक चीनी मिलें बंद हो गईं, कर्नाटक की कुछ मिलें बंद हुईं। लेकिन गन्ना विभाग ने सभी 119 चीनी मिलें चलाने का कार्य किया।

CM योगी ने कहा कि अगर हम गेहूं खरीद की बात करें तो पिछली सरकार ने 19, 02,098 किसानों को 12,808 करोड़ रुपये का भुगतान किया था। हमारी सरकार ने 43,75,574 किसानों को गेहूं के दाम का 36,504 करोड़ रुपये का भुगतान उनके खाते में किया।

समाजवादी पार्टी की सरकार में 11 चीनी मिलें बंद हुईं थीं। हमने बंद चीनी मिलों को चलाने का काम किया। सपा, बसपा सरकारों ने जिन चीनी मिलों को बेचने का काम किया था, उनमें से जो चीनी मिलें वापस चल सकती थीं हमने उनमें नए संयंत्र लगाकर शुरू किया। बसपा, सपा  के राज के दौरान 21 चीनी मिलें बंद हुईं थीं। उन्होंने औने-पौने दामों पर चीनी मिलों को बेच दिया था। 250-300 करोड़ रुपये की चीनी मिलों को 25-30 करोड़ रुपये में बेचने का काम हुआ था।

 

CM योगी ने किसान सम्मेलन में कहा कि जीवन चक्र का आधार है अन्न, इसके बगैर मानवीय सृष्टि की कल्पना भी नहीं की जा सकती। अपने परिश्रम और पुरुषार्थ से बिना भेदभाव के प्रत्येक व्यक्ति के लिए अन्न उत्पन्न करना अपने आप में पुण्य का कार्य है।

योगी आदित्यनाथ ने किसानों से कहा कि “आप सबका हृदय से स्वागत व अभिनंदन करता हूं। अन्नदाताओं की ताकत का अहसास सरकार को है। दुनिया जब सोती है तब हमारा अन्नदाता किसान रात्रि में, दिन की धूप में, सर्दी की परवाह किए बगैर दिन-रात एक कर इस धरती माता से अन्न उत्पन्न करता है और उसी अन्न से इस धरती के प्रत्येक व्यक्ति का पेट भरता है।”

You can share this post!

आज राजस्थान के इन जिलों में बंद रहेंगी इंटरनेट सेवाएं, रीट के एग्जाम्स को लेकर सावधानी

केरल की आदिवासी मजदूर की बेटी ने रचा इतिहास, बनी महिला IAS

Leave Comments