होम / बात देश की

राजस्थान: गहलोत सरकार के सभी मंत्रियों ने दिये इस्तीफे, रविवार को नए मंत्रिमंडल का शपथग्रहण

जानकारी के मुताबिक, रविवार को दो बजे सभी विधायकों को पार्टी प्रदेश के कार्यालय में बुलाया गया है। सूत्रों के मुताबिक, रविवार को शपथग्रहण समारोह होगा।

फाइल फोटो

जयपुर: राजस्थान सरकार के सभी मंत्रियों ने अपने इस्तीफे दे दिये हैं। ये इस्तीफे कैबिनेट पुनर्गठन प्रक्रिया के तहत हुए हैं। अब उम्मीद जताई जा रही है कि रविवार को नया मंत्रिमंडल शपथ ग्रहण करेगा। राजस्थान में गलहोत-पायलट खेमे के बीच चल रही खींचतान सुलझ जाने के बाद नए मंत्रिमंडल पर सहमति बनी है। इसी प्रक्रिया में शुक्रवार को सबसे पहले तीन मंत्रियों ने अपने इस्तीफे दिये थे। उन्होंने अपने इस्तीफे कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी को भेजे थे।

रविवार को नए मंत्रिमंडल का शपथग्रहण

जानकारी के मुताबिक, रविवार को दो बजे सभी विधायकों को पार्टी प्रदेश के कार्यालय में बुलाया गया है। सूत्रों के मुताबिक, रविवार को शपथग्रहण समारोह होगा। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भी रविवार को ही राज्यपाल से मुलाकात करेंगे। गौरतलब है कि शुक्रवार को ही तीन मंत्रियों, राजस्व मंत्री हरीश चौधरी, चिकित्सा व स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा व शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखकर अपने मंत्री पद छोड़ने और पार्टी संगठन के लिए काम करने की पेशकश की थी।  

इन विधायकों को बनाया जा सकता है मंत्री

नए मंत्रिमंडल के लिए सचिन पायलट खेमे से मंत्री पद के लिए जो संभावित नाम सामने आ रहे हैं। वह हेमाराम चौधरी, बृजेन्द्र ओला, दिपेंद्र सिंह शेखावत, रमेश मीणा और मुरारीलाल मीणा हैं। वहीं इधर, गहलोत ख़ेमे से संभावित नाम हैं- बसपा से राजेन्द्र गुढा, निर्दलीय- महादेव खंडेला, संयम लोढ़ा, कांग्रेस विधायक- महेन्द्रजीतासिंह मालवीय, रामलाल जाट, मंजू मेघवाल, जाहिदा खान और शंकुतला रावत।

 



अधिकतम 30 मंत्री हो सकते हैं मंत्रिमंडल में शामिल

राजस्थान में अशोक गहलोत के मंत्रिमंडल में 21 सदस्य थे। लेकिन अब विस्तार में अधिकतम 30 लोगों के हिस्से मंत्री पद आ सकता है। मंत्रिमंडल पुनर्गठन में सचिन पायलट खेमे के विधायकों के साथ साथ पिछले साल राजनीतिक संकट में सरकार का साथ देने वाले विधायकों की अपेक्षाओं को पूरा करने की चुनौती पार्टी आलाकमान पर रहेगी। इन विधायकों में बीएसपी से कांग्रेस में आए छह विधायकों के अलावा दर्जन भर निर्दलीय विधायक भी हैं। संख्या बल के हिसाब से राज्य विधानसभा में इस समय कांग्रेस के 108 व भाजपा के 71 विधायक हैं। इसके अलावा 13 निर्दलीय विधायक हैं।

Related Tags:
Ashok-Gehlot -Rajasthan-ministers-resign -Congress-headquarters -Cabinet-reshuffle

You can share this post!

हमारा लक्ष्य लोगों को बेहतर इंसान बनाना, धर्म परिवर्तन नहीं: RSS प्रमुख मोहन भागवत

उत्तराखंड: शीतकाल के लिए बंद हुए बाबा बदरी नाथ धाम के द्वार, भारी संख्या में पहुंचे श्रद्धालु

Leave Comments