होम / बात देश की

पंजाब के बाद अब सड़क पर पहुंची छत्तीसगढ़ कांग्रेस की कलह

एक चिकित्साकर्मी के साथ मारपीट के आरोप में प्रदेश कांग्रेस सचिव पंकज सिंह के खिलाफ FIR दर्ज करने के विरोध में टीएस सिंहदेव के समर्थकों ने कल बिलासपुर में कोतवाली पर धरना दिया।

प्रदेश कांग्रेस सचिव के खिलाफ FIR के विरोध में टीएस सिंहदेव के समर्थकों का बिलासपुर में कोतवाली पर धरना.

नई दिल्ली: कांग्रेस शासित छत्तीसगढ़ में अब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव के बीच की कलह खुलकर सड़क पर आती दिख रही है। एक चिकित्साकर्मी के साथ कथित तौर पर मारपीट करने के आरोप में प्रदेश कांग्रेस सचिव पंकज सिंह के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने के विरोध में राज्य के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव के समर्थकों ने कल बिलासपुर में कोतवाली थाने के बाहर धरना दिया।

इस बारे में बिलासपुर के एसपी दीपक झा ने कहा कि 19 सितंबर को हमें छत्तीसगढ़ आयुर्विज्ञान संस्थान (CIMS) के एक कर्मचारी की शिकायत मिली थी। हमने अस्पताल से बरामद सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पंकज सिंह के खिलाफ मामला दर्ज किया है। इस मामले की जांच जारी है।  जबकि सिंह ने कहा, "यह एफआईआर बदला लेने की कार्रवाई है।"

बिलासपुर के विधायक शैलेश पांडे ने कहा कि पुलिस की कार्रवाई दुर्भाग्यपूर्ण है। ये कार्रवाई इसलिए की गई है क्योंकि हम टीएस सिंहदेव के समर्थक हैं। इससे कुछ ही दिन पहले छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव दिल्ली पहुंचे थे। हालांकि उन्होंने अपने इस दौरे को निजी बताया था। छत्तीसगढ़ कांग्रेस के अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कांग्रेस सरकार में छिड़े इस विवाद के बारे में कहा कि “मैं राज्य में संगठन का प्रमुख हूं। न मैं सीएम भूपेश बघेल का समर्थक हूं, न ही मंत्री टीएस सिंह देव का। मैं संगठन के साथ हूं, जो सर्वोच्च है।” 

उल्लेखनीय है कि छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री के पद को लेकर भूपेश बघेल और टीएस सिंहदेव के बीच रस्साकसी चल रही है। सिंहदेव का दावा है कि ढाई-ढाई साल के समझौते पर भूपेश बघेल को पहले मुख्यमंत्री बनाया गया था। जबकि बघेल का कहना है कि ये कोई गठबंधन सरकार नहीं बल्कि कांग्रेस के बहुमत की सरकार है। ऐसे में आलाकमान जब तक चाहेगा वे मुख्यमंत्री बने रहेंगे। 

ये भी पढ़ें: ब्राह्मण विरोधी बयान देकर फंस गए सीएम भूपेश बघेल के पिता, विरोध प्रदर्शन चालू, मुकदमा दर्ज

इससे पहले पंजाब में कांग्रेस की कलह को शांत करने के लिए कैप्टन अमरिंदर को मुख्यमंत्री के पद से हटा दिया गया। इसके बावजूद राज्य में कलह खत्म होने का बजाए और बढ़ गई है। कांग्रेस के राज्य अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू और कैप्टन के गुट के बीच विवाद को खत्म करने के लिए चरणजीत सिंह चन्नी को पंजाब का नया मुख्यमंत्री बनाया गया है।

You can share this post!

बंगाल विधानसभा उपचुनाव: दीदी की केंद्र को खुली चुनौती, नहीं बनाने देंगे भारत को अफ़ग़ानिस्तान

सिद्धू को मुख्यमंत्री बनने से रोकने के लिए हर कुर्बानी को तैयार हैं कैप्टन

Leave Comments