होम / बात देश की

प्रियंका के बाद राहुल ने संभाला मोर्चा, इस कदम से यूपी सरकार बेचैन, जानिए..

प्रियंका गांधी को हिरासत लिए जाने के बाद राहुल ने मोर्चा संभाला है। राहुल गांधी के नेतृत्व में 5 सदस्यीय कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी का दौरा करेगा।

राहुल गांधी.

लखनऊ: यूपी के लखीमपुर खीरी में हुई हिंसक घटना के बाद से कांग्रेस पार्टी राज्य सरकार पर लगातार हमलावर है। पहले कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी ने लखीमपुर खीरी जाकर मृत किसानों के परिजनों से मिलने का फैसला किया। राज्य सरकार ने उनको ऐसा करने से रोकने के लिए हिरासत में लिया।

इसके बाद राहुल गांधी ने मोर्चा संभाला है और उन्होंने लखीमपुर खीरी जाकर पीड़ितों के परिजनों से मिलने का फैसला किया है। राहुल गांधी के नेतृत्व में 5 सदस्यीय कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी का दौरा करेगा। देखना दिलचस्प होगा कि राज्य सरकार अब राहुल गांधी के लखीमपुर खीरी के दौरे को लेकर क्या रवैया अपनाती है।

 

इससे पहले छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को प्रियंका गांधी से मिलने की अनुमति नहीं दी गई। उन्होंने दिल्ली जाकर कहा,"मैंने वहां (यूपी) के अधिकारियों से कहा भी कि मैं प्रियंका गांधी और अपने नेताओं से मिलकर वापस चला जाऊंगा। लेकिन उन्होंने मुझे नहीं मिलने दिया और लखनऊ के एयरपोर्ट पर बिठाए रखा।"

उधर दिल्ली में आए पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने गृह मंत्री से मुलाकात की और उनसे तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने को कहा। चन्नी ने गृहमंत्री से लखीमपुर खीरी घटना पर बात की और पंजाब बॉर्डर को सील करने को कहा ताकि पंजाब में हथियार और नशे की सामग्री न आ सके। 

जबकि उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने नेताओं को लखीमपुर खीरी जाने की इजाजत ना मिलने के बारे में कहा कि लखीमपुर खीरी में हमनें कुछ दिन के लिए रोक लगाई है। ये रोक कुछ दिन के लिए ही है। क्योंकि वो जगह संवेदनशील है और वहां पर जांच में कोई बाधा ना पड़े इसलिए ऐसा किया गया। 

कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने सीतापुर में लखीमपुर खीरी की घटना के खिलाफ कैंडल मार्च निकाला। दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि प्रियंका ने लखीमपुर खीरी घटना में पीड़ित कुछ परिवारों से फोन पर बात की है।

सीतापुर के जिलाधिकारी विशाल भारद्वाज ने कहा कि लखीमपुर प्रशासन ने धारा 144 के तहत राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के जनपद में प्रवेश को रोका है। जिससे प्रियंका वाड्रा को सीतापुर में रोका गया है। उधर लखनऊ पुलिस ने आगामी त्योहारों, विभिन्न प्रवेश परीक्षाओं और किसानों के विरोध-प्रदर्शन के मद्देनज़र कानून-व्यवस्था बनाए रखने तथा कोरोना के नियमों का पालन सुनिश्चित करने के लिए 8 नवंबर तक सीआरपीसी की धारा 144 के तहत प्रतिबंध लगा दिया है।

 

ये भी पढ़ें:  पाक से चीन को पश्चिमी तकनीक मिलना सबसे बड़ी चिंता: IAF चीफ

इससे पहले लखीमपुर खीरी में हुई हिंसक घटना के शिकार मृतकों के परिजनों को ज़िला प्रशासन ने सहायता राशि के तौर पर 45-45 लाख रुपये के चेक सौंपे। लखीमपुर खीरी के डीएम डॉ.अरविंद कुमार चौरसिया और अन्य अधिकारियों ने हिंसा में मारे गए किसानों के परिवार के सदस्यों को 45-45 लाख रुपये के चेक सौंपे। 

Related Tags:
Lakhimpur-Kheri -Congress -Priyanka-Gandhi -Rahul-Gandhi -Bhupesh-Baghel -Charanjit-Singh -Siddharthnath-Singh लखीमपुर-खीरी -कांग्रेस -प्रियंका-गांधी -राहुल-गांधी -भूपेश-बघेल चरणजीत-सिंह -सिद्धार्थनाथ-सिंह-

You can share this post!

लखीमपुर खीरी में TMC के प्रतिनिधिमंडल ने पीड़ितों से की मुलाकात, कांग्रेस ने उठाए सवाल

Lakhimpur Kheri Violence LIVE Updates : सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार ने मांगा जवाब, कितने लोग हुए अबतक गिरफ्तार?

Leave Comments