होम / लाइफस्टाइल

विश्वनाथ धाम में प्राण प्रतिष्ठा के साथ स्थापित हुई मां अन्नपूर्णा की प्रतिमा

CM योगी आदित्यनाथ ने विश्वनाथ मंदिर परिसर में मां अन्नपूर्णा की मूर्ति का स्वागत किया। मूर्ति को विश्वनाथ मंदिर के ईशान कोण में स्थापित किया गया।

वाराणसी : मान्यता है कि काशी समेत पूरी दुनिया का पेट भरने के लिए बाबा विश्वनाथ (Baba Vishwanath) ने  मां अन्नपूर्णा से ही भिक्षा मांगी थी। मां अन्नपूर्णा को भोजन की देवी माना जाता है। साल 2020 में 29 नवंबर को प्रधानमंत्री मोदी ने 'मन की बात' कार्यक्रम में बताया था कि कि लगभग एक सदी पहले भारत से चुराई गई देवी अन्नपूर्णा की एक प्राचीन मूर्ति को कनाडा से वापस लाया जा रहा है। मां अन्नपूर्णा की 108 साल पहले गायब हुई मूर्ति (Maa Annapurna Devi idol) अब काशी विश्वनाथ धाम में पुनर्स्थापित हो चुकी है। खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath) ने माता अन्नपूर्णा की मूर्ति का स्वागत किया। विश्वनाथ मंदिर परिसर में प्रतिमा पहुंचने उन्होंने खुद पालकी उठाई और प्रतिमा को स्थापना स्थल तक पहुंचाया। मूर्ति को विश्वनाथ मंदिर के ईशान कोण में स्थापित किया गया। सीएम योगी के हाथों मां अन्नपूर्णा की प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा की गई।

You can share this post!

अयोध्या में पंचकोसी परिक्रमा शुरू, आस्था पर हर पग न्योछावर; जानें अध्यात्मिक महत्व

वाराणसी में 3 दिवसीय 'काशी उत्सव': समृद्ध सांस्कृतिक विरासत, शानदार अतीत के होंगे दर्शन

Leave Comments