होम / लाइफस्टाइल

वाराणसी में 3 दिवसीय 'काशी उत्सव': समृद्ध सांस्कृतिक विरासत, शानदार अतीत के होंगे दर्शन

आजादी का अमृत महोत्सव के तहत 16-18 नवंबर तक वाराणसी में तीन दिवसीय 'काशी उत्सव' आयोजित किया जा रहा है। इसमें काशी की पुरातन विरासत एवं संस्कृति का समृद्ध अतीत दिखेगा।

काशी उत्सव

नई दिल्ली : काशी की प्रतिष्ठित एवं पुरातन विरासत तथा संस्कृति का उत्सव मनाने के लिए वाराणसी में तीन दिवसीय कार्यक्रम 'काशी उत्सव' आयोजित किया जा रहा है। विशेष रूप से इस आयोजन में गोस्वामी तुलसीदास, संत कबीर, संत रैदास, भारतेंदु हरिश्चंद्र, मुंशी प्रेमचंद और जयशंकर प्रसाद जैसे सदियों पुराने कवियों तथा लेखकों पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। इस कार्यक्रम का आयोजन वाराणसी के रुद्राक्ष अंतर्राष्ट्रीय सहयोग एवं कन्वेंशन सेंटर में 16 से 18 नवंबर, 2021 तक किया जाएगा। भारत सरकार की पहल पर प्रगतिशील भारत के 75 वर्ष पूरे होने का उत्सव मनाने के लिए 'आजादी का अमृत महोत्सव' के अंतर्गत इसका आयोजन किया जा रहा है।

उत्तर प्रदेश राज्य सरकार और वाराणसी प्रशासन के सहयोग से भारत सरकार के संस्कृति मंत्रालय की ओर से इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र (IGNCA) इस कार्यक्रम की मेजबानी कर रहा है। वाराणसी या काशी को समृद्ध सांस्कृतिक विरासत और शानदार इतिहास तथा सुंदरता के कारण इस महोत्सव के लिए चुना गया है। भारत की सबसे लंबी नदी गंगा काशी से होकर बहती है और इस आयोजन के लिए चुनी गई छह दिग्गज हस्तियों सहित शहर के कलाकारों, विद्वानों तथा लेखकों के लिए यह प्रेरणा का स्रोत है। यह उत्सव काशी के प्रतिष्ठित गौरव को सामने रखने में मदद करेगा जो हरेक समयकाल की एक अनोखी महानता को जन्म देता है।

उत्सव के हर दिन एक विषय निर्धारित

उत्सव के हर दिन के लिए एक विषय निर्धारित किया गया है और ये हैं-'काशी के हस्ताक्षर'; 'कबीर, रैदास की बानी और निर्गुण काशी' तथा 'कविता और कहानी- काशी की जुबानी'। कार्य्रक्रम का पहला दिन प्रख्यात साहित्यकारों, भारतेंदु हरिश्चंद्र और जयशंकर प्रसाद पर केंद्रित होगा। दूसरे दिन प्रमुख कवि संत रैदास और संत कबीर दास पर प्रकाश डाला जाएगा तथा उत्सव के अंतिम दिन गोस्वामी तुलसीदास और मुंशी प्रेमचंद केंद्र बिंदु के रूप में होंगे।

फिल्म, संगीत, नाटक, नृत्य प्रदर्शन से काशी की संस्कृति उभरेगी 

यह आयोजन पैनल चर्चा, प्रदर्शनियों, फिल्म स्क्रीनिंग, संगीत, नाटक और नृत्य प्रदर्शन के माध्यम से काशी के इन व्यक्तित्वों को प्रमुखता देगा। नामी कलाकार इस कार्यक्रम में प्रस्तुति देंगे। डॉ. कुमार विश्वास 16 नवंबर, 2021 को 'मैं काशी हूं' विषय पर एक कार्य्रक्रम प्रस्तुत करेंगे। जबकि सांसद मनोज तिवारी महोत्सव के अंतिम दिन 'तुलसी की काशी' पर एक संगीतमय प्रस्तुति देंगे। उत्सव के दौरान कलापिनी कोमकली, भुवनेश कोमकली, पद्मश्री से सम्मानित भारती बंधु और मैथिली ठाकुर जैसे कलाकारों द्वारा कई भक्तिमय कार्य्रक्रम भी प्रस्तुत होने वाले हैं।

ये भी पढ़ें: निशाने पर सलमान खुर्शीद, नैनीताल वाले घर आगजनी-पथराव; अयोध्या पर लिखी है विवादित किताब

राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (एनएसडी) के कलाकारों द्वारा रानी लक्ष्मी बाई पर आधारित एक नाटक 'खूब लड़ी मर्दानी' प्रस्तुत किया जाएगा। जिसे 18 नवंबर, 2021 को एनएसडी के भारती शर्मा द्वारा निर्देशित किया गया है। इसके अलावा 16 नवंबर, 2021 को जयशंकर प्रसाद के महाकाव्य 'कामायनी: डांस ड्रामा' पर आधारित एक और नाट्य प्रस्तुति दी जाएगी। इस नाटक का निर्देशन वाराणसी के व्योमेश शुक्ल ने किया है।

IGNCA का 'काशी उत्सव' को भारत के लोगों को समर्पित
 
महोत्सव में वाराणसी पर आईजीएनसीए की फिल्मों को भी शामिल किया गया है। इस महोत्सव में पुस्तकों तथा छह साहित्यिक हस्तियों की प्रदर्शनी लगाई जाएगी। काशी के छह प्रकाशकों पर आयोजित पैनल चर्चा में प्रसिद्ध वक्ता भाग लेंगे। अधिक से अधिक संख्या में जन-भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए स्थानीय कलाकारों, व्यक्तित्वों और सांस्कृतिक विद्वानों को भी वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से या व्यक्तिगत रूप से उत्सव में भाग लेने तथा अपने विचार प्रस्तुत करने के लिए आमंत्रित किया जाएगा।

150 कलाकार ले रहे हिस्सा

इस कार्यक्रम में 150 कलाकार भाग ले रहे हैं। आईजीएनसीए 'काशी उत्सव' को भारत के लोगों को समर्पित करना चाहता है, जिसमें प्रत्येक भारतीय की भूमिका है और उसने राष्ट्र के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। चाहे फिर वह सांस्कृतिक, आर्थिक या सामाजिक रूप से इसमें शामिल हों। काशी उत्सव के माध्यम से आईजीएनसीए न केवल राष्ट्र के गौरवशाली अतीत को प्रदर्शित कर रहा है, बल्कि यह जागरूकता भी पैदा कर रहा है कि भारत और भारतीयों में आत्मनिर्भर राष्ट्र बनने की अत्यधिक समाहित क्षमता है।

Related Tags:
IGNCA Kashi -Kashi-Utsav -Goswami-Tulsidas -Sant-Kabir -Sant-Raidas -Bhartendu-Harishchandra -Munshi-Premchand -Jaishankar-Prasad -Amrit-Mahotsav -Indira-Gandhi-National-Center-for-the-Arts -काशी -'काशी-उत्सव' -गोस्वामी-तुलसीदास -संत-कबीर -संत-रैदास -भारतेंदु-हरिश्चंद्र -मुंशी-प्रेमचंद -जयशंकर-प्रसाद -अमृत-महोत्सव -इंदिरा-गांधी-राष्ट्रीय-कला-केंद्र-

You can share this post!

विश्वनाथ धाम में प्राण प्रतिष्ठा के साथ स्थापित हुई मां अन्नपूर्णा की प्रतिमा

12 साल बाद गुरु का कुंभ राशि में गोचर, जानें किन 5 राशियों पर पड़ेगा इसका प्रभाव

Leave Comments