होम / दुनिया-जहान

WHO ने CoVaxin को दी इमरजेंसी यूज की मंजूरी, विदेश यात्रा होगी आसान

डब्ल्यूएचओ (WHO) की ओर से ट्वीट किया गया और बताया गया कि WHO ने भारत बॉयोटेक द्वारा निर्मित कोवैक्सीन को 'इमरजेंसी यूज लिस्टिंग' में शामिल किया है।

फाइल फोटो

नई दिल्ली: भारत बायोटेक की ओर से बनाई गई कोरोना वायरस के खिलाफ विश्वसनीय वैक्सीन 'कोवैक्सीन' को डब्ल्यूएचओ (WHO) की मंजूरी मिल गई है। डब्ल्यूएचओ की ओर से मिली मंजूरी का मतलब है कि को-वैक्सीन लगवाने वाले लोगों को भी विदेश यात्रा की अनुमति मिल जाएगी। हालांकि ऑस्ट्रेलिया जैसे देश पहले ही कोवैक्सीन को मान्यता दे चुके हैं। 

कई महीनों से मंजूरी मिलने का था इंतजार

जानकारी के मुताबिक, पिछले कई महीनों में, कोवैक्सीन को बनाने वाली कंपनी भारत बायोटेक और डब्ल्यूएचओ के बीच इस विषय को लेकर बातचीत जारी थी। भारत बायोटेक ने इससे जुड़े सारे कागजात भी जमा करा दिये थे। इस बारे में डब्ल्यूएचओ लगातार जानकारियां मांग रहा था और अब पूरी तरह से संतुष्ट होने के बाद वैक्सीन को मंजूरी दे दी गई। ये वैक्सीन इंटरनेशनल लेवल पर जरूरी सभी योग्यताओं की कसौटी पर खरी उतरी है। 

डब्ल्यूएचओ ने खुद दी जानकारी

इस बारे में डब्ल्यूएचओ (WHO) की ओर से ट्वीट किया गया और बताया गया कि WHO ने भारत बॉयोटेक द्वारा निर्मित कोवैक्सीन को 'इमरजेंसी यूज लिस्टिंग' में शामिल किया है। अब कोविड की रोकथाम करने वाली वैक्सीन में एक और नाम जुड़ गया है। हालांकि भारत में कोवैक्सीन का इस्तेमाल शुरूआती दौर से हो रहा है और इसके नतीजे शानदार रहे हैं। 

 


भारत सरकार ने डब्ल्यूएचओ को शुक्रिया कहा

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख माडविया ने कोवैक्सीन के इमरजेंसी यूज लिस्टिंग के लिए WHO को धन्यवाद दिया है। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, 'यह समर्थ नेतृत्व की निशानी है, यह मोदी जी के संकल्प की कहानी है, यह देशवासियों के विश्वास की ज़ुबानी है, यह आत्मनिर्भर भारत की दिवाली है।' 

 

 

You can share this post!

सैनिकों के बीच दिवाली मनाएंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बढ़ाएंगे जवानों का हौसला

अयोध्या के 5वें दीपोत्सव में 9.51 लाख दीये जलाने का रिकॉर्ड, CM बोले- अब कारसेवा हुई तो फूल बरसेंगे

Leave Comments