होम / दुनिया-जहान

इंडियन डिफेंस एकेडमी में प्रशिक्षण ले रहे अफगान कैडेटों के सामने क्या हैं विकल्प ! जानिए..

लगभग 180 अफगान कैडेट भारत की विभिन्न सैन्य अकादमियों में प्रशिक्षण ले रहे हैं। इनमें से 140 ने पश्चिमी देशों में वीजा के लिए आवेदन किया है।

डिफेंस एकेडमी में अफगान कैडेट (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: भारत की विभिन्न सैन्य अकादमियों में अपना पाठ्यक्रम पूरा करने के बाद भी सरकार अफगान सैन्य कैडेटों को छह महीने का ई-वीजा देगी। लगभग 180 अफगान कैडेट भारत की विभिन्न सैन्य अकादमियों में प्रशिक्षण ले रहे हैं। इनमें से 140 ने पश्चिमी देशों में वीजा के लिए आवेदन किया है। इन कैडेटों का भविष्य अफगान सेना की हार के साथ अनिश्चित हो गया, क्योंकि तालिबान ने अफगानिस्तान में सत्ता पर कब्जा कर लिया है।

सरकारी सूत्रों के अनुसार भारत की सैन्य अकादमियों में प्रशिक्षण लेने वाले सभी अफगान कैडेटों और सैनिकों को छह महीने का ई-वीजा दिया जाएगा। उनके पास इस अवधि में अपने भविष्य के बारे में अपनी कार्रवाई के बारे में निर्णय लेने का विकल्प है। अधिकांश अफगान कैडेटों ने यूरोपीय देशों और कनाडा में शरण के लिए आवेदन किया है। जबकि उनमें से कई भारत में भी रहना चाहते हैं। सरकारी सूत्रों ने कहा कि इन सैनिकों को उन एजेंसियों के संपर्क में रखा गया है जो पहले से ही देश में रह रहे अफगानों के साथ काम कर रही हैं।

ये भी पढ़ें: अमेरिका में अफगान शरणार्थियों पर महिला सैनिक को घेरने का आरोप, कैसे बचकर निकली! जानिए.. 

इससे पहले भारत ने लगभग 180 कैडेटों को अपने यहां रक्षा बलों की सैन्य अकादमियों में अपने संबंधित पाठ्यक्रम पूरा करने की अनुमति दी थी। क्षमता निर्माण कार्यक्रम के तहत भारतीय रक्षा बल अफगान सैनिकों को प्रशिक्षण दे रहे हैं। विभिन्न संस्थानों में 180 से अधिक अफगान सैन्य कर्मियों को प्रशिक्षित किया जा रहा है। इनमें से अधिकांश देहरादून में भारतीय सैन्य अकादमी (आईएमए), चेन्नई में अधिकारी प्रशिक्षण अकादमी (ओटीए) और खड़कवासला में राष्ट्रीय रक्षा अकादमी (एनडीए) में हैं। इन अधिकारियों और कैडेटों के प्रशिक्षण और अन्य खर्च भारत द्वारा 2001 के बाद से अफगानिस्तान में नेशन बिल्डिंग के प्रयासों के तहत उठाया जा रहा था।

You can share this post!

अमेरिका में हत्या के मामले बढ़ने के कई कारण, कोविड-19 के अलावा कौन, जानिए..

तालिबान को पाक का सपोर्ट बना अमेरिकी नाकामी की सबसे बड़ी वजह

Leave Comments