होम / दुनिया-जहान

नोबेल पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई ने पाकिस्तानी दूल्हे से UK में किया निकाह, प्रियंका चोपड़ा ने दी बधाई

बॉलीवुड फिल्म स्टार प्रियंका चोपड़ा जोनास ने मलाला यूसुफजई (Malala Yousafzai) को निकाह की शुभकामनाएं दी हैं। उन्होंने अपने इंस्टाग्राम स्टोरी में मलाला को नई शुरुआत की मुबारकबाद दी

तस्वीर: Twitter/Malala

बर्मिंघम: पाकिस्तान में तालिबान की गोलियों का शिकार बनने के बाद से ब्रिटेन में रह रही मलाला यूसुफजई ने वहीं निकाह रचा लिया है। उन्होंने पाकिस्तानी क्रिकेट मैनेजमेंट से जुड़े असर मलिक के साथ निकाह किया है। खुद मलाला यूसुफजई ने अपने निकाह की जानकारी दी और तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर की। बॉलीवुड फिल्म स्टार प्रियंका चोपड़ा जोनास ने मलाला यूसुफजई (Malala Yousafzai) को निकाह की शुभकामनाएं दी हैं। उन्होंने अपने इंस्टाग्राम स्टोरी में मलाला को नई शुरुआत की मुबारकबाद दी है।

मलाला यूसुफजई ने दी निकाह की जानकारी

मलाला यूसुफजई (Malala Yousafzai) ने निकाह की तस्वीरें शेयर करते हुए बताया कि उन्होंने अपने जीवन की नई शुरुआत की है। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, 'असर और मैंने जीवनसाथी बनने के लिए डोर बांध ली है। दोनों ने 'परिवार के साथ एक छोटे समारोह में' निकाह किया। और अब हम भावी जीवनयात्रा पर साथ यात्रा करने को लेकर उत्साहित हैं।'  मलाला ने इसे जीवन का कीमती दिन करार दिया है। हालांकि एक समय उन्होंने वैवाहिक जीवन पर नकारात्मक टिप्पणी करके शादी-विवाह-निकाह जैसे बंधन को बकवास करार दिया था। 

देखिए- मलाला का ट्वीट

 

पाकिस्तान से हैं शौहर असर मलिक

मलाला के शौहर असर मलिका लौहार विश्वविद्यालय से मैनेजमेंट की डिग्री ले चुके हैं। वो अभी पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के नेशनल हाई परफॉर्मेंस सेंटर में जनरल मैनेजर हैं। वो पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड की तरफ से आयोजित की जाने वाली पाकिस्तान क्रिकेट लीग की मुल्तान सुल्तान्स टीम के साथ भी काम चुके हैं। मलाला खुद भी क्रिकेट काफी पसंद करती हैं।

कौन हैं मलाला यूसुफजई?

मलाला यूसुफजई (Malala Yousafzai) पाकिस्तान की जानी-मानी महिला अधिकार कार्यकर्ता हैं। उन्हें तालिबान चरमपंथियों ने 2012 में सिर में गोली मार दी थी। जिसके बाद उन्हें इलाज के लिए बर्मिंघम लाया गया और तब से वो वहीं रह रही हैं। मलाला यूसुफजई को 17 साल की उम्र में नोबल पुरस्कार (Noble Prize) से सम्मानित किया गया था। उन्होंने ये सम्मान भारत के मानवाधिकार और बाल अधिकार कार्यकर्ता कैलाश सत्यार्थी के साथ शेयर किया था।

पिछले साल ऑक्सफोर्ड से ली स्नातक की डिग्री

मलाला यूसुफजई तालिबान का निशाना बनने के बाद कई सर्जरी से गुजर चुकी हैं। उन्हें जब इंग्लैंड लाया गया था, तो उनकी हालत काफी खराब थी। इसके बाद धीरे धीरे उन्होंने जीवन को नई दिशा थी। हालांकि वो महिला और बच्चियों की शिक्षा के लिए काफी मुखर रहीं। इस बीच उन्होंने पिछले साल ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय (Oxford University) से स्नातक की पढ़ाई पूरी की है। मलाला यूसुफजई को जीवन की नई शुरुआत के लिए पूरी दुनिया से बधाई संदेश मिल रहे हैं।

You can share this post!

चीन ने किया दुनिया के पहले ट्विन-सीट स्टील्थ फाइटर जेट का परीक्षण

US के सेंट्रल बैंक की चेतावनी, चीन के रियल स्टेट संकट का असर दुनिया भर में होगा

Leave Comments