होम / दुनिया-जहान

चीन व भारत के बीच 14वें दौर की कोर कमांडर स्तरीय वार्ता संपन्न

दोनों पक्षों ने चीन भारत सीमा के पश्चिमी सेक्टर के वास्तविक नियंत्रण रेखा क्षेत्र के संबंधित सवालों पर ईमानदारी व गहराई से विचार-विमर्श किया।

सांकेतिक चित्र

नई दिल्लीः चीनी रक्षा मंत्रालय से मिली खबर के अनुसार चीनी सेना और भारतीय सेना ने 12 जनवरी को मोडोल भेंट वार्ता स्थल के चीनी पक्ष में 14वें दौर की कोर कमांडर स्तरीय वार्ता की। दोनों देशों के रक्षा व राजनयिक विभागों के प्रतिनिधियों ने इसमें भाग लिया। दोनों पक्षों ने चीन भारत सीमा के पश्चिमी सेक्टर के वास्तविक नियंत्रण रेखा क्षेत्र के संबंधित सवालों पर ईमानदारी व गहराई से विचार-विमर्श किया। दोनों पक्ष दोनों देशों के नेताओं के मार्गदर्शन के तहत यथाशीघ्र ही शेष सवालों का समाधान करने पर सहमत हुए । 

दोनों पक्षों ने कहा कि यह पश्चिमी सेक्टर के वास्तविक नियंत्रण रेखा क्षेत्र की शांति व अमन चेन की बहाली और द्विपक्षीय संबंध बढ़ाने के लिए लाभदायक होगा। दोनों पक्षों ने प्राप्त हुई उपलब्धियों को मजबूत कर प्रभावी कदम उठाकर पश्चिमी सेक्टर और सर्दी की स्थिति की सुरक्षा और स्थिरता बनाए रखने पर मंजूरी दी। दोनों पक्ष सहमत हुए हैं कि वे सैन्य और राजनयिक माध्यम से वार्ता के जरिये यथाशीघ्र ही दोनों पक्षों के लिए स्वीकार्य योजना संपन्न करेंगे और जल्द ही अगले दौर की कोर कमांडर स्तरीय वार्ता करेंगे।

यह भी पढ़ेंः सीमा विवाद को सुलझाने के लिए भारत-चीन के बीच 12 घंटे तक चली बातचीत

आपको बता दें कि इसके पहले 13 जनवरी को भारत और चीन के सैन्य प्रतिनिधियों ने पैट्रोलिंग प्वाइंट-15, हॉट स्प्रिंग्स से सैनिकों को पीछे हटाने पर 12 घंटे से अधिक समय तक विचार-विमर्श किया। चीनी पक्ष के मोल्दो में दोनों देशों के सैन्य कमांडरों के बीच बुधवार को बैठक सुबह 10 बजे शुरू हुई और रात 10.30 बजे समाप्त हुई। 

यह भी पढ़ेंः चीन से लगती उत्तरी सीमा पर खतरा अभी भी कम नहीं हुआ है : सेना प्रमुख

जनरल नरवणे ने कहा था कि उत्तरी सीमाओं के साथ, भारतीय सेना ने पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के साथ निरंतर बातचीत में संलग्न रहते हुए, ऑपरेशनल तैयारियों के उच्चतम स्तर को बनाए रखना जारी रखा है। उन्होंने कहा, "हम बातचीत के मौजूदा दौर में पेट्रोलिंग प्वाइंट 15 (हॉट स्प्रिंग) से जुड़े मसले को हल करने की उम्मीद कर रहे हैं। एक बार ऐसा हो जाने के बाद हम मौजूदा गतिरोध से पहले के अन्य मुद्दों पर गौर करेंगे।"

You can share this post!

जर्मन पुलिस ने नकली कोविड वैक्स प्रमाणपत्रों के खिलाफ कड़े कदम उठाए

Coronavirus: दुनिया में 32 करोड़ लोग हो चुके हैं कोरोना संक्रमित, US का बुरा हाल

Leave Comments