होम / कुछ सुना आपने

चमत्कार! मुर्दाघर के फ्रीजर में 7 घंटे के बाद जिंदा मिला 'मृत' व्यक्ति, पढ़ें पूरी खबर

वायरल हुए एक वीडियो में मधुबाला को यह कहते हुए सुना जा सकता है, 'वह मरा नहीं है। यह कैसे हुआ? देखिए, वह कुछ कहना चाहता है, वह सांस ले रहा है।

सांकेतिक चित्र

लखनऊः उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद से एक अजीबोगरीब घटना सामने आई है, जिसमें एक 40 वर्षीय एक जिंदा व्यक्ति को करीब सात घंटे तक मुर्दाघर के फ्रीजर में रखा गया। जानकारी के मुताबिक, इलेक्ट्रिशियन श्रीकेश कुमार को तेज रफ्तार मोटरसाइकिल ने टक्कर मार दी, जिसके बाद उसे गुरुवार रात जिला अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया था। अगले दिन अस्पताल के कर्मचारियों ने शव को फ्रीजर में रख दिया।

लगभग सात घंटे बाद, जब एक पंचनामा या दस्तावेज पर शव की पहचान के बाद परिवार के सदस्यों के हस्ताक्षर लेकर शव परीक्षण के लिए सहमति देनी थी, तभी कुमार की भाभी मधुबाला ने देखा कि उसका शरीर थोड़ा हिला। वायरल हुए एक वीडियो में मधुबाला को यह कहते हुए सुना जा सकता है, 'वह मरा नहीं है। यह कैसे हुआ? देखिए, वह कुछ कहना चाहता है, वह सांस ले रहा है।

मुरादाबाद के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. शिव सिंह ने कहा, आपातकालीन चिकित्सा अधिकारी ने सुबह 3 बजे मरीज को देखा था तब उसका दिल नहीं धड़क रहा था। उसने कई बार उस व्यक्ति की जांच की थी। उसके बाद उसे मृत घोषित कर दिया गया था, लेकिन सुबह पुलिस की टीम और उसके परिवार ने उसे जीवित पाया। जांच के आदेश दे दिए गए हैं। हमारी प्राथमिकता अब उसकी जान बचाना है।

यह भी पढ़ेंः Delhi Metro: 21 नवंबर की सुबह बाधित रहेंगी मेट्रो सेवाएं, ये हे वजह

सिंह ने कहा कि यह उन दुर्लभ मामलों में से एक है.. हम इसे लापरवाही नहीं कह सकते। कुमार का अब मेरठ के एक स्वास्थ्य केंद्र में इलाज चल रहा है जहां उनकी हालत में सुधार आया है। परिजनों ने कहा, हम डॉक्टरों के खिलाफ लापरवाही की शिकायत दर्ज कराएंगे, क्योंकि उन्होंने श्रीकेश को फ्रीजर में रखकर लगभग मार डाला था।

यह भी पढ़ेंः इंदौर 5वीं बार देश का सबसे स्वच्छ शहर घोषित, लिस्ट में ये शहर भी हैं शामिल

इसके पहले शुक्रवार सुबह लगभग साढ़े दस बजे पुलिस इंस्पेक्टर परिजनों को साथ मोर्चरी पहुंचे और कानूनी प्रक्रिया शुरू कर दी थी। इसी दौरान देखने को मिला कि घायल की सांसें चल रही थीं। जिससे वहां उपस्थित लोगों में हड़कंप मच गया। इसके बाद घायल को जिला अस्पताल की इमरजेंसी में फिर से भर्ती करा दिया गया है। सिविल लाइंस थाना प्रभारी आरपी सिंह ने बताया कि घायल को जिला अस्पताल की इमरजेंसी में भर्ती करा दिया है। तहरीर के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। 
 

Related Tags:
Mortuary -moradabad -hospital -UP-News -Disdtrict-Hospital -Electrician-Shrikesh-Kumar -Road-Accident -UP-Police -Doctor

You can share this post!

इंदौर 5वीं बार देश का सबसे स्वच्छ शहर घोषित, लिस्ट में ये शहर भी हैं शामिल

उत्तर प्रदेश को जल्द मिलेगी गंगा एक्सप्रेस-वे की सौगत, परियोजना को मिली पर्यावरण विभाग से मंजूरी

Leave Comments