होम / क्राइम

शाहीन बाग से पकड़ी गई 400 करोड़ की हेरोइन, अफगान ड्रग्स रैकेट का भंडाफोड़

दिल्ली के शाहीन बाग और जामिया इलाके में एक घर से 50 किलो हेरोइन और 47 किलो संदिग्ध ड्रग्स के साथ नोट भी बरामद किया गया है। नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने गुप्त सूचना के आधार पर कार्रवाई की थी।

फोटो क्रेडिट-गूगल

नई दिल्ली: दिल्ली (Dehli) के शाहीन बाग को आप शायद अभी भूले नहीं होंगे यह वही जगह है जहां CAA बिल के विरोध में महीनों तक सड़क को जाम कर के रखा गया था। दिल्ली का यह इलाका किसी न किसी कारण से सुर्खियों में बना रहता है।एक बार फिर शाहीन बाग खबरों में आ गया है।

मिला अरबों का नशीला पदार्थ 

शाहीन बाग में 50 किलो हेरोइन, 30 लाख रुपए नकद कैश, के साथ ही नोट गिनने वाली मशीन भी बरामद की गई है।

आपको बता दें कि बरामद हेरोइन की अनुमानित कीमत 400 करोड़ रुपये के करीब बताई जा रही है। दिल्ली पुलिस ने इसी के साथ ही इंडो-अफगान के एक गिरोह का भी खुलासा किया हैं।

अफगानिस्तान से जुड़े तार

सूत्रों के मुताबिक इस ड्रग्स की खेप अफगानिस्तान से दिल्ली लाई गई  थी । इस गिरोह के तार उत्तर प्रदेश (UP) पंजाब (Panjab) और दिल्ली (Delhi) से जुड़ें बताए जा रहे है। पुलिस ने इस मामले में अब तक एक आरोपी को भी गिरफ्तार  किया है। 

ड्रग्स रैकेट के खिलाफ बड़ी कामयाबी

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) के अनुसार यह एक बड़ी कामयाबी की तरह देखा जा रहा है। एनसीबी  के अनुसार इस  गिरोह के तार काफी गहरी है जिसमें अफगानिस्तान(Afghanistan), पाकिस्तान और भारतीय लोग शामिल है। हालंकि यह एक इंडो-अफगान गिरोह है।

 एनसीबी के डायरेक्टर जनरल (DDG) ने बताया कि एनसीबी की टीम ने गुप्त रूप से काम करते हुए दिल्ली के शाहीन बाग और जामिया इलाके में रेड कर एक घर से 50 किलो हेरोइन और 47 किलो संदिग्ध नारकोटिक्स के साथ ही अन्य सामान भी बरामद किया गया है। साथ में 30 लाख रुपये कैश और नोट गिनने वाली मशीन बरामद की गई।

इसे भी पढ़ें: मोदी की शरण में शाह फैसल, राजनीति से मोह भंग; दोबारा करेंगे नौकरी

पाक के बॉर्डर के रास्ते दिल्ली पहुंचा 'ड्रग्स'

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जांच में पता चला है कि हेरोइन को पेड़ के तने में छिपा कर बॉर्डर पर लाया गया है। जहां से इसे पहले बॉर्डर और फिर समुद्र के रास्ते हिन्दुस्तान तक पहुंचाया गया। इसे लेकर एनसीबी को शक है कि इस ड्रग्स को हवाला के जरिए भारत लाया गया है।

इसे भी पढ़ें:जम्मू-कश्मीर में सेना का पराक्रम, अल-बद्र के 2 आतंकियों को मार गिराया

ज्ञानेश्वर सिंह अनुसार इससे पहले भी हिंदुस्तान तक ड्रग्स को पहुंचाने के लिए कई तरीके अपनाए जाते रहे है।इस गिरोह के कुछ लोग इस काम में इतने माहिर है कि कभी-कभी यह लोग एनसीबी और अन्य जांच एजेंसियों को धोखा दे कर भी निकल जाते है।

क्राइम से जुड़ी अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें  Crime News In Hindi      

You can share this post!

मां की गाली दी इसलिए जान से मार दिया, 15 साल के लड़के ने कुबूला जुर्म

मुजफ्फरनगर से बरामद हुई 1300 करोड़ की हेरोइन, शाहीन बाग से जुड़े हैं तार

Leave Comments