होम / क्राइम

प्रतापगढ़ में भिड़े भाजपा और कांग्रेस के कार्यकर्ता, जानिए पूरी कहानी..

प्रतापगढ़ जिले के सांगीपुर ब्लाक में भाजपा और कांग्रेस के कार्यकर्ता राज्य सरकार द्वारा आयोजित जन आयोग मेले में भिड़ गए।

प्रतापगढ़ में भिड़े भाजपा और कांग्रेस के कार्यकर्ता.

प्रतापगढ़: उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले के सांगीपुर ब्लाक में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस के कार्यकर्ता राज्य सरकार द्वारा आयोजित जन आयोग मेले में भिड़ गए। दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं ने मेले में जमकर उत्पात मचाया। कार्यकर्ताओं ने सड़क पर खड़ी गाड़ियों में जमकर तोड़फोड़ की।

जन आयोग मेले में हुई इस मारपीट के समय कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के साथ पूर्व सांसद प्रमोद तिवारी और विधान मंडल दल की नेता मोना आराधना मिश्र भी मौजूद थे। बताया जा रहा है कि भाजपा के सांसद संगम लाल गुप्ता के  पहुंचते ही कार्यकर्ता आपस में भिड़ गए। दोनों पार्टियों के समर्थकों के बीच बवाल किस बात पर शुरू हुआ, इसके बारे में अभी तक कोई साफ जानकारी नहीं मिली है।    

दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं के बीच मचे बवाल के कारण सांगीपुर ब्लाक परिसर में घंटो तक हाई प्रोफाइल ड्रामा चलता रहा। मौके पर पुलिस मौजूद थी लेकिन उसने कोई कार्रवाई नहीं की। दोनों पक्षों के संघर्ष के दौरान सांगीपुर पुलिस मूक-बधिर बनी रही।

प्रतापगढ़ को कांग्रेस के दिग्गज नेता प्रमोद तिवारी और निर्दलीय नेता रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया का गढ़ माना जाता है। कांग्रेस के नेता प्रमोद तिवारी और पूर्व सांसद रत्ना सिंह की राजनीतिक लड़ाई रघुराज प्रताप सिंह से काफी दिनों तक चलती रही है। दोनों पक्षों में एक बार जमकर मारपीट भी हो चुकी है। इस लड़ाई में पूर्व सांसद और रघुराज प्रताप सिंह के करीबी अक्षय प्रताप सिंह उर्फ गोपाल जी को चोट लगी थी।  
 

You can share this post!

कौन था गैंगस्टर जितेंद्र गोगी? तिहाड़ जेल से चलाता था जुर्म के कारोबार

कार डिजायनर दिलीप छाबड़िया का बेटा बोनिटो गिरफ्तार, कपिल शर्मा ने दर्ज कराई थी शिकायत

Leave Comments