होम / बिज़नेस

क्रिप्टोकरेंसी पर प्रतिबंध के लिए संसद में होगा बिल पेश, खबर से क्रिप्टोकरेंसी के दाम में गिरावट

इस बिल से भारत में सभी निजी क्रिप्टोकरेंसी को प्रतिबंधित कर दिया जाएगा। क्रिप्टोकरेंसी की तकनीक को बढ़ावा देने के लिए कुछ निजी क्रिप्टोकरेंसी को अनुमति दी जा सकती है।

क्रिप्टोकरेंसी

नई दिल्ली : सरकार संसद के आगामी शीतकालीन सत्र में कुछ निजी क्रिप्टोकरेंसी को छोड़कर सभी पर रोक लगाने के लिए एक विधेयक ला सकती है। क्रिप्टोकरेंसी और आधिकारिक डिजिटल मुद्रा विनियमन विधेयक, 2021  (The Cryptocurrency and Regulation of Official Digital Currency Bill, 2021) को 29 नवंबर से शुरू होने वाले शीतकालीन सत्र में लोकसभा में पेश करने के लिए सूचीबद्ध किया गया है। इस बिल का मकसद भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा जारी की जाने वाली डिजिटल करेंसी को विनियमित करने और उसके लिए एक सुविधाजनक ढांचा तैयार करना है।  

इस बिल से भारत में सभी निजी क्रिप्टोकरेंसी को प्रतिबंधित कर दिया जाएगा, हालांकि क्रिप्टोकरेंसी में लगने वाली तकनीक को बढ़ावा देने के लिए अपवाद के रूप में कुछ निजी क्रिप्टोकरेंसी को अनुमति दी जा सकती है। मौजूदा वक्त में देश में क्रिप्टोकरेंसी के उपयोग पर कोई नियम या कोई प्रतिबंध नहीं है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस महीने की शुरुआत में वरिष्ठ अधिकारियों के साथ क्रिप्टोकरेंसी के मामले पर एक बैठक की थी। इसके संकेत हैं कि सरकार इस बार क्रिप्टोकरेंसी पर एक कठोर कानून बनाने का कदम उठाने जा रही है।

पिछले हफ्ते बीजेपी सदस्य जयंत सिन्हा की अध्यक्षता में वित्त मंत्रालय की स्थायी समिति (the Standing Committee on Finance) ने क्रिप्टो एक्सचेंजों, ब्लॉकचैन एंड क्रिप्टो एसेट्स काउंसिल (BACC) के प्रतिनिधियों से मुलाकात की। बैठक में यह सहमति बनी कि क्रिप्टोकरेंसी पर प्रतिबंध नहीं लगाया जाना चाहिए, लेकिन इसको विनियमित किया जाना चाहिए। भारतीय रिजर्व बैंक ने क्रिप्टोकरेंसी के खिलाफ अपने कठोर रूख को बार-बार दोहराया है। उसका कहना है कि क्रिप्टोकरेंसी देश की आर्थिक और वित्तीय स्थिरता के लिए गंभीर खतरा पैदा कर सकते हैं।  रिजर्व बैंक को क्रिप्टोकरेंसी में व्यापार करने वाले निवेशकों की संख्या और उनके दावा किए गए बाजार मूल्य पर भी संदेह है।

ये भी पढ़ें : संसद के शीतकालीन सत्र में कृषि कानूनों को निरस्त करने के लिए विधेयक सूचीबद्ध

हाल ही में भ्रामक दावों के साथ निवेशकों को लुभाने के लिए कथित तौर पर क्रिप्टोकरेंसी में निवेश पर आसान और ज्यादा रिटर्न का वादा करने वाले फिल्मी सितारों वाले विज्ञापनों की संख्या बढ़ रही है। जबकि संसद में क्रिप्टोकरेंसी पर बिल लाए जाने की खबर से ज्यादातर क्रिप्टोकरेंसी के दाम में गिरावट आ गई। बिटकॉइन (Bitcoin) की कीमत में 15 प्रतिशत, Ethereum के दाम  में करीब 12 फीसद, Tether के मूल्य में 6 प्रतिशत और यूएसडी कॉइन (USD Coin) के मूल्य में करीब 8 फीसद की गिरावट देखी गई है। 

Related Tags:
Parliament -Winter-Session -Cryptocurrencies -Bill -The-Cryptocurrency-and-Regulation-of-Official-Digital-Currency-Bill -2021 -Lok-Sabha -Reserve-Bank-of-India -Bitcoin -संसद -शीतकालीन-सत्र -क्रिप्टोकरेंसी -विधेयक -क्रिप्टोकरेंसी-और-आधिकारिक-डिजिटल-मुद्रा-विनियमन-विधेयक2021- -लोकसभा भारतीय-रिजर्व-बैंक -बिटकॉइन--

You can share this post!

भारत में जल्द आएगी EV क्रांति, कीमतें भी आएंगी Petrol-Diesal गाड़ियों के बराबर: Nitin Gadkari

Share Market Today:कोरोना की दहशत से शेयर मार्केट धड़ाम, सेंसेक्स में गिरावट 1200 अंक के पार

Leave Comments