होम / ये तो ब्रेकिंग है जी

दिल्ली MCD ने 1000 से ज्यादा कॉन्ट्रैक्ट टीचरों को नौकरी से निकाला

NDMC और SDMC ने अपने 1000 से ज्यादा कॉन्ट्रैक्ट टीचरों को नौकरी से निकालने का फैसला किया है। इन सभी अध्यापकों ने कोरोना की महामारी के दौरान राहत कार्यों में काफी मदद की थी।

दिल्ली MCD का स्कूल.

नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली के 3 नगर निगमों में से 2 ने अपने 1000 से ज्यादा कॉन्ट्रैक्ट टीचरों को नौकरी से निकालने का फैसला किया है। उत्तरी दिल्ली नगर निगम (North Delhi Municipal Corporation-NDMC) और  दक्षिण दिल्ली नगर निगम (South Delhi Municipal Corporation-SDMC) ने फैसला किया है कि वे अपने 1000 से ज्यादा कॉन्ट्रैक्ट टीचरों के अनुबंध को आगे नहीं बढ़ाएंगे। इन सभी अध्यापकों ने कोरोना की महामारी के दौरान राहत कार्यों में काफी मदद की थी।

जबकि दिल्ली के ही पूर्वी दिल्ली नगर निगम (Eeast Delhi Municipal Corporation-EDMC) ने अपने कॉन्ट्रेक्ट टीचरों को नौकरी पर बहाल रखने का फैसला किया है। SDMC ने अपने 421 अध्यापकों और NDMC ने 667 शिक्षकों को नौकरी से निकालने का फैसला किया है। अधिकारियों का कहना है कि कोरोना महामारी के कारण ये टीचर लंबे समय से फिजिकल तौर क्लास नहीं ले रहे थे। 

नौकरी से निकाले गए कई अध्यापकों के सामने अब रोजी-रोटी का संकट पैदा होने का खतरा है। इनमें से कई शिक्षकों की उम्र ज्यादा है और उनको नई जगह पर काम खोजने में काफी मुश्किलें आने की आशंका है। इस पूरे मामले पर अब राजनीति तेज होने की आशंका बढ़ गई है। इन शिक्षकों को सर्व शिक्षा अभियान के तहत भुगतान किया जाता रहा है। इसमें केंद्र सरकार 25 फीसद और दिल्ली की राज्य सरकार को 75 फीसद भुगतान करना होता था। दिल्ली राज्य सरकार ने मई 2020 से ही संविदा शिक्षको के वेतन के भुगतान को रोक दिया था। इसके बाद निगमों के सामने वेतन के लिए पैसे की किल्लत पैदा हो गई। आम आदमी पार्टी के एक प्रवक्ता ने इस पूरे मामले को चौंकाने वाला बताया है। 

दिल्ली नगर निगम के चुनाव होने में अब कुछ ही समय बाकी है। इसके कारण दिल्ली में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी और केंद्र में सत्ता बैठी भाजपा के बीच टकराव बढ़ गया है। दिल्ली के तीनों निगमों पर भाजपा का कब्जा है।

ये भी पढ़ें : EDMC के मेयर ने आप के 20 सदस्यों को निलंबित किया

इसी टकराव के चलते EDMC के मेयर श्याम सुंदर अग्रवाल ने निगम के आम आदमी पार्टी के 20 सदस्यों को सदन की कार्यवाही के दौरान कथित तौर पर हंगामा करने के मामले में 15 दिन के लिए निलंबित कर दिया। इन 20 सदस्यों में विपक्षी पार्टी के मनोनीत आठ सदस्य भी शामिल हैं। आम आदमी पार्टी की ओर से अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं आई। पूर्वी दिल्ली में एक मंदिर के संबंध में हंगामे की स्थिति बनी। जबकि अगले साल निगम के चुनाव होने हैं।  

You can share this post!

पूर्वी चंपारण के चिरैया में हुआ बड़ा हादसा, नाव पलटने से 22 लोग डूबे; 10 बचे

लखीमपुर हिंसा मामले में केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के बेटे की हो सकती है गिरफ्तारीः सूत्र

Leave Comments