होम / बिज़नेस

कब तक कोरोना से उबरेगी ज्यादातर देशों की इकोनामी, वर्ल्ड बैंक अध्यक्ष ने कही ये बात

विश्व बैंक के अध्यक्ष ने कहा कि विकासशील अर्थव्यवस्थाओं को महामारी के पहले के स्तर तक पहुंचने में एक साल का वक्त लग सकता है।

ज्यादातर देशों की GDP के 2022 तक कोरोना के पहले के स्तर तक पहुंचने की उम्मीद

नई दिल्ली: विश्व बैंक के अध्यक्ष डेविड आर. मलपास का कहना है कि दुनिया के ज्यादातर उभरती इकोनामी वाले देशों की GDP के 2022 तक कोरोना महामारी के पहले के स्तर तक पहुंचने की उम्मीद है। जबकि इन देशों में प्रति व्यक्ति आय के महामारी से पहले के स्तर तक पहुंचने में लंबा समय लगेगा। 

महामारी के बाद विकासशील देशों की इकोनामी में सुधार पर आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान विश्व बैंक के अध्यक्ष ने कहा कि विकासशील अर्थव्यवस्थाओं को महामारी के पहले के स्तर तक पहुंचने में एक साल का वक्त लग सकता है। जबकि इन देशों में प्रति व्यक्ति आय के 2019 के स्तर तक पहुंचने में लंबा समय लगेगा। कई देशों में अर्थव्यवस्था में सुधार की गति ज्यादा धीमी और जटिल हो सकती है। 

 

वर्ल्ड बैंक के ताजा इकोनामिक अपडेट के हिसाब से यूरोप, मध्य एशिया की उभरती अर्थव्यवस्थाओं और विकासशील देशों की इकोनामी में 2021 में सुधार हो रहा है। 2021 में इनकी इकोनामिक ग्रोथ के 5.5 फीसद रहने की उम्मीद है। कोरोना महामारी के कारण विकासशील देशों की इकोनामी में बड़ी गिरावट आई थी। 

ये भी पढ़ें: UP Election 2022: BJP की बैठक में रणनीति पर चर्चा, इन खास मुद्दों पर रहेगी नजर

जबकि अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) के अनुसार जिन देशों ने कोरोना महामारी के शुरुआती दौर में ही उसके प्रसार पर अंकुश लगाने में कामयाबी हासिल कर ली थी, उनकी इकोनामिक रिकवरी जल्दी शुरू हो गई। ऐसे देशों में चीन और संयुक्त अरब अमीरात (UAE) शामिल हैं।        
  
 

Related Tags:
World-Bank -David-R.-Malpass -Emerging-Economy -Corona-Pandemic -Per-Capita-Income -International-Monetary-Fund -IMF -विश्व-बैंक -डेविड-आर.-मलपास -उभरती-इकोनामी -कोरोना-महामारी -प्रति-व्यक्ति-आय -अंतर्राष्ट्रीय-मुद्रा-कोष-

You can share this post!

किसान मजदूर राष्ट्र संघ की कृषि आधारित व्यवसाय एवं व्यापार पर कार्यशाला

कोयले की कमी से निपटने के लिए सरकार की तैयारी, कर रही ये बड़ा उपाय

Leave Comments